जबलपुर। जबलपुर का एक युवक जो कि शिपिंग कंपनी में काम करता है उसे मलेशिया पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।युवक का सिर्फ इतना आरोप है कि वो बिना अनुमति शहर में घूम रहा था।युवक के विदेश में गिरफ्तार होने की जैसे ही परिजनों को खबर लगी वैसे ही परिवार वाले घबरा गए।मनमत किरण के परिजनों ने अब विदेश मंत्रालय से मदद की गुहार लगाते हुए जबलपुर पुलिस से मुलाकात की है।परिजनों के मुताबिक मनमत को इसलिए गिरफ्तार किए गए क्योकि उसके पास मलेशिया में घूमने का वीज़ा परमिट नही था।रानीताल सर्वोदय नगर मे रहने वाले एम पी मनमत किरण की दो सप्ताह से अपने परिजनो से कोई बातचीत भी नही हुई है। परेशान परिजन अब जबलपुर पुलिस और विदेश मंत्रालय से मदद की गुहार लगा रहे है। जबलपुर निवासी एम पी मनमत किरण छः माह पूर्व कोयम्बतूर की एक शिपिंग कम्पनी में नौकरी कर रहा था । इस दौरान शिपिंग कम्पनी ने उसे अपने शिप के साथ मलेशिया के मिरी शहर भेजा। मिरी शहर के बंदरगाह पहुंचने के बाद एमपी मनमत किरण जब मिरी शहर घूमने के लिए निकला तब उसे मिरी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। नियम के अनुसार शिप में काम करने वाले दूसरे देश के कर्मचारी अपने शिप के साथ सिर्फ बंदरगाह तक आ सकते है। उन्हें उस शहर के अंदर आने के लिए अनुमति लेना पड़ती है लेकिन एमपी मनमत किरण के पास ऐसी कोई भी अनुमति नही थी और न ही इस नियम की जानकारी थी जिस वजह से वह अनजाने में गलती कर बैठा। मलेषियन पुलिस ने उसे गिरफ्तार करने के बाद उसके जबलपुर स्थित परिजनों को इस संबंध में सूचना दी थी।लेकिन इसके बाद गिरफ्तार यूवक के संबंध में कोई भी जानकारी नही मिल रही है जिससे परिजन बेहद परेशान है। परिजनों ने विदेश मंत्रालय को इस संबंध में पूरी जानकारी देकर मदद मांगी है।