निजी भूमि पर बने गैरेज को तोड़ने का मामला, नगर निगम के दो अधिकारी निलंबित

जबलपुर। विगत 19 दिसम्बर को एक अखबार  के संचालक चेतन और विप्लव अग्रवाल के निवास पर नगर निगम जबलपुर के अन्यक्रांति दल द्वारा नियम विरुद्ध और प्रशासन व निगम के वरिष्ठ अधिकारियों को अंधेरे में रखकर कार्रवाई के सिलसिले में शासन के निर्देश अनुसार नगर निगम आयुक्त आशीष कुमार ने ज़ोन प्रभारी बाहुबली जैन और अन्यक्रांति दल के प्रमुख नरेंद्र राजपूत को तत्काल प्रभाव से निलम्बित कर दिया है और मामले की जाँच के आदेश दिए हैं।

विदित हो कि दो दिन पहले नगर निगम के अन्यक्रांति अमले ने सीएम हेल्पलाइन की शिकायत का हवाला देते हुए चेतन अग्रवाल के निवास पर उनकी निजी भूमि पर बने गैरेज को जेसीबी मशीन की सहायता लेकर ध्वस्त कर दिया था,कार्रवाई के बाद सामने आया कि प्रशासन द्वारा इस तरह की किसी कार्रवाई के आदेश या निर्देश नहीं दिए गए थे और पूरे प्रशासन को अंधेरे में रखकर बाहुबली जैन और नरेंद्र राजपूत ने इस कार्रवाई को अंजाम दिया था। कार्रवाई के दौरान भूमि सम्बंधी दस्तावेज़ों की जानकारी दी गई और सामान निकालने का समय देने की बात कही गई लेकिन बाहुबली और नरेंद्र राजपूत ने कुछ ना सुनते हुए कार्रवाई की जिसमें काफ़ी नुक़सान भी हुआ है।

आज वित्तमंत्री तरुण भनोत ने मामले की जानकारी ली और नगर निगम आयुक्त को ताक़ीद देते हुए कहा कि सीएम हेल्पलाइन के नाम पर लोगों को अन्यक्रांति दल द्वारा जानबूझकर परेशान करने वाले अधिकारी कर्मचारियों को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.उन्होंने स्पष्ट तौर पर कहा कि प्रदेश सरकार की मंशा भू-माफ़िया,संगठित अपराध करने वालों और सूदखोरों पर लगाम लगाना है,ना कि झूठी शिकायतों के आधार पर आम नागरिकों को परेशान करना है। ज्ञात हो कि संभागआयुक्त रवींद्र मिश्रा के निर्देश पर बाहुबली जैन और नरेंद्र राजपूत को उनके द्वारा की गई इस कार्रवाई के सम्बंध में कारण बताओ नोटिस जारी किया जा चुका है और आज उन्हें निलम्बित कर दिया गया और मामले की जाँच के आदेश दिए गए हैं।