वेतन नहीं मिलने से नाराज़ कर्मचारियों ने कमिश्नर के सामने कपड़े उतारकर किया प्रदर्शन

जबलपुर। आगा चौक में उस वक्त बेहद शर्मसार कर देने वाली स्थित बन गयी जब अपने वेतन की मांग कर रहे ठेका कंपनी के सफ़ाई कर्मचारियों ने अचानक नग्न होकर प्रदर्शन करना शुरु कर दिया। पूरे कपडे उतार कर प्रदर्शन कर रहे इन सफ़ाई कर्मचारियों ने नारेबाजी भी शुरु कर दी जिससे माहौल बेहद तनावपूर्ण हो गया। 

स्वच्छता अभियान के तहत रोज सुबह नगर निगम कमिश्नर आशीष कुमार अपने अमले के साथ शहर की सफ़ाई व्यवस्था का निरीक्षण करते हैं। जिसके तहत आज वे आगा चौक पहुंचे थे। जहां पर ये सफ़ाई कर्मी अपने वेतन की मांग को लेकर जमा थे। जैसे ही नगर निगम आयुक्त आशीष कुमार वहां पर पहुंचे इन सफ़ाइ कर्मियों ने अपने कपडे़ उतार कर नग्न अवस्था में प्रदर्शन करना शुरु कर दिया। इन सफ़ाई कर्मियो का आरोप है कि उनकी एस्सेल कंपनी ने उन्हें पिछले तीन माह से पूरा वेतन नहीं दिया है।

सके पूर्व उन्हें तीन से चार हजार रुपये ही दिये जा रहे थे जिससे उन्हें अपना घर चलाना भी मुश्किल हो गया है। इतना ही नहीं अब उनके घर में खाने के लिये भोजन और पहनने के लिये कपडे़ भी नहीं हैं ऐसे में अब उनके सामने नग्न होने के अलावा और कोई रास्ता नहीं बचा है। नग्न सफ़ाई कर्मियों ने आरोप लगाया कि वेतन न देने के बावजूद उनसे जबरदस्ती काम लिया जाता है और काम न करने पर कंपनी के अधिकारियों के द्वारा प्रताडि़त किया जाता है। नाराज सफ़ाई कर्मियो ने नगर निगम कमिश्नर को घेर लिया और उनसे मांग की कि कंपनी से उन्हे वेतन दिलाया जाये। नगर निगम कमिश्नर ने उग्र सफ़ाई कर्मियो को शांत किया और एस्सेल कंपनी के अधिकारियो से तीन दिन मे मामले का निराकरण करने के आदेश दिये जिसके बाद सफ़ाइ कर्मियो ने अपना प्रदर्शन समाप्त किया। दरअसल नगर निगम ने एस्सेल कंपनी को शहर की सफ़ाई और कचरा उठाने का ठेका दिया है इस कंपनी के द्वारा कचरे से बिजली बनाने का प्लांट भी संचालित किया जाता है लेकिन पिछले कई माह से इस कंपनी की आर्थिक स्थिति खराब होने से कंपनी ने अपना कामकाज बंद कर रही है। लंबे समय से कंपनी अपने कर्मचारियो को वेतन भी नही दे पा रही है जिससे एस्सेल कंपनी के कर्मचारी सडको पर उतर कर प्रदर्शन कर रहे हैं।