कोरोना के बाद अब डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया का कहर, बढ़ रही मरीजों की तादाद

जबलपुर, संदीप कुमार। कोविड-19 के बाद अब मलेरिया, डेंगू और चिकनगुनिया ने भी अपने पैर पसरना शुरू कर दिया है। हालांकि कोरोना वायरस की तरह मलेरिया-डेंगू और चिकिनगुनिया का इलाज है, बावजूद इसके चिकित्सक सलाह देते है कि मलेरिया भी जानलेवा बीमारी है लिहाजा इससे सावधान रहें और कोरोना वायरस के साथ इस बीमारी को भी लोग हल्के में बिल्कुल न लें।

कोरोना के बाद अब मलेरिया-डेंगू का भी डंक
मध्यप्रदेश में अभी तक लोग कोरोना वायरस से डर रहे थे पर इस बीच अब मलेरिया-डेंगू और चिकिनगुनिया ने भी लोगो को बीमार करना शुरू कर दिया है। जबलपुर जिला अस्पताल, मेडिकल कालेज और एल्गिन अस्पताल में कोरोना के मरीजों के साथ साथ अब मलेरिया-डेंगू और चिकिनगुनिया के मरीजों में की संख्या में भी इजाफा होने लगा है। इसे लेकर स्वास्थ्य विभाग की ड्यूटी और बढ़ गई है। जिला अस्पताल में पदस्थ मलेरिया जांच अधिकारी बताते हैं कि कोरोना काल में जुलाई-अगस्त के माह में सीजन लेवल बीमारियों ने भी दस्तक देना शुरु कर दिया है। जिला अस्पताल में मलेरिया-डेंगू-चिकिनगुनिया के केसों में बढ़ोत्तरी हुई है। एक दिन में ही 40 से 50 प्लेट्स मलेरिया-डेंगू की बनाई जा रही है, इनमें कुछ केस पॉजिटिव भी आए है।

कोरोना जितना ही खतरनाक है डेंगू-मलेरिया
जिला अस्पताल में पदस्थ मलेरिया जांच अधिकारी सी.एन शुक्ला का कहना है कि कोरोना काल के समय मलेरिया के केसों में भी इजाफा हुआ है। हालांकि दोनों ही बीमारी कोरोना और मलेरिया के लक्षण अलग है पर दोनों ही बीमारी घातक है। कोरोना में आया बुखार जहाँ लगातार बना रहता है वही मलेरिया-डेंगू का फीवर हर आधे घण्टे में चढ़ता उतरता रहता है।हाल ही में देखा गया है कि मलेरिया डेंगू संबंधित केसों के रोजाना मरीजों की संख्या में जमकर बढ़ोत्तरी हुई है, जिसमें कि कुछ कोरोना पॉजिटिव भी केस मिल रहे हैं।