पुलिस आरक्षक ने मेट्रो बस परिचालक के साथ की मारपीट, आक्रोशित परिचालकों ने एसपी ऑफिस का किया घेराव

आक्रोशित चालक-परिचालकों ने एसपी ऑफिस का घेराव कर दिया है। इधर एसपी आफिस के सामने दर्जनों बसों के खड़े हो जाने के कारण यातायात बाधित होने लगा जिसके बाद कई थानों की पुलिस मौके पर पहुँच गई।

जबलपुर, संदीप कुमार। मध्यप्रदेश (MP) में मारपीट की घटनाएं कम होने का नाम नहीं ले रही है हाल ही में भिंड (Bhind) में दो पुलिस आरक्षकों द्वारा एक किसान को निर्वस्त्र कर बुरी तरह मारा गया। वो मामला शांत हुआ था ही नहीं कि जबलपुर (Jabalpur) में भी एक पुलिस आरक्षक द्वारा एक युवक को मारने की घटना सामने आई है।जबलपुर के गोसलपुर थाने (gosalpur police station) में पदस्थ पुलिस आरक्षक ने मेट्रो बस परिचालक (metro bus operator) के साथ मारपीट कर दी। जिसके बाद आक्रोशित चालक-परिचालकों ने एसपी ऑफिस का घेराव कर दिया है। इधर एसपी आफिस के सामने दर्जनों बसों के खड़े हो जाने के कारण यातायात बाधित होने लगा जिसके बाद कई थानों की पुलिस मौके पर पहुँच गई।

यह भी पढ़ें…शादी में लड़के वालों ने रखी थी ये डिमांड, लड़की वालों ने नहीं मानी तो तोड़ा रिश्ता, थाने पहुंचा मामला

पीड़ित मेट्रो बस परिचालक संदीप रजक का कहना है कि जब उसकी बस रद्दी चौकी से गोसलपुर तरफ जा रही थी। तभी एक पुलिस आरक्षक पनागर जाने के लिए बैठा, परिचालक ने उससे किराया माँगा तो उसने देने से मना कर दिया, मेट्रो बस जैसे ही गोसलपुर पहुँची तो पुलिस आरक्षक ने कंडक्टर के साथ न सिर्फ मारपीट की बल्कि उसे सवारियों के बीच ही गालियां देना शुरू कर दिया, इधर जैसे ही यह यह खबर मेट्रो बस के सभी चालक परिचालकों को लगी तो उन्होंने अपनी अपनी बसों के साथ एसपी ऑफिस पहुंचे और घेराव कर दिया।

आक्रोशित चालकों ने दी चेतावनी
आक्रोशित चालक- परिचालकों की मांग है कि ना सिर्फ दोषी पुलिस आरक्षक के खिलाफ कार्रवाई की जाए बल्कि उन्हें सुरक्षा भी दी जाए, आक्रोशित चालकों ने चेतावनी दी है कि अगर दोषी पुलिस आरक्षक के खिलाफ कार्रवाई नहीं होती है तो आने वाले समय में बसों का संचालन बंद कर दिया जाएगा, इधर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक संजय अग्रवाल ने चालकों को आश्वासन दिया है कि इस पूरे घटनाक्रम की जांच की जाएगी और जांच में अगर पाया जाता है तो दोषी पुलिस आरक्षक के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। एएसपी संजय अग्रवाल ने कहा कि पुलिस आरक्षक की बदसलूकी कतई बर्दाश्त नहीं की जाएगी, फिलहाल अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक की समझाइश को चालक परिचालक मान गए है।

यह भी पढ़ें… गांव के रसूखदार ने पुलिस के साथ मिलकर किसान को बेहरहमी से मारा, घटना को लेकर कांग्रेस विधायक ने कही यह बात