जबलपुर में मजदूरों की वापसी के लिए रेलवे तैयार, स्टेशन से बाहर निकलते ही होगी स्क्रीनिंग

जबलपुर| संदीप कुमार| कोरोना वायरस (Corona Virus) संकटकाल में मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के हजारों मजदूर (workers) कई दिनों से अभी भी दूसरे राज्यों में फंसे हुए है ऐसे में अब इन मजदूरों को सरकार उनके गंतव्य स्थान तक पहुचाने का काम रेल्वे के माध्यम से शुरू कर दिया है।
.
कोरोना वायरस संक्रमण के चलते जबलपुर रेल्वे स्टेशन (Jabalpur Railway Station) की सूरत बदल दी गई है। आगामी समय मे अब जबलपुर में भी दूसरे राज्यों से मजदूर आने वाले हैं ऐसे में रेलवे ने अपनी पूरी तैयारी कर ली है। बात करें अगर जबलपुर रेलवे स्टेशन की तो यहां पर प्लेटफार्म नंबर एक पर पूरी व्यवस्था कर ली गई है| रेलवे ने बकायदा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए मार्किंग की है और गोले भी बनाए हैं | इसके अलावा प्लेटफार्म पर भी ज्यादा भीड़ ना रहे इसके लिए भी आरपीएफ और जीआरपी की टीम को तैनात किया गया है। वहीं जिला प्रशासन ने भी रेलवे के साथ सामंजस्य बनाते हुए जबलपुर स्टेशन के बाहर बसों और एंबुलेंस की व्यवस्था कर रखी है। जबलपुर संभाग कमिश्नर महेश चंद्र चौधरी का कहना है कि अब दूसरे राज्यों में फंसे मजदूर के आने का सिलसिला शुरू हो गया है जबलपुर-डिंडोरी-मंडला में रहने वाले मजदूरों जबलपुर स्टेशन आने लगे हैं यह मजदूर जब स्टेशन से बाहर निकलेंगे तो बकायदा इन की स्क्रीनिंग करवाई जाएगी और अगर कोई मजदूर कोरोना पॉजिटिव पाया जाता है तो उसको एंबुलेंस के माध्यम से कवारेंटाइन सेंटर में रखा जाएगा। इधर रेलवे ने भी स्टेशन में आने वाली श्रमिक ट्रेनों में यात्रियों के लिए खाने-पीने की व्यवस्था सुचारू रूप से की रखी है।

आठ श्रमिक स्पेशल ट्रेन आ सकती है जबलपुर 
जानकारी के अनुसार रेलवे बोर्ड द्वारा जो श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाई जा रही है वह 24 कोच की होगी।एक ट्रेन में एक बार में 1200 यात्री सवार हो सकते हैं। ऐसे में यह अंदाजा लगाया जा रहा है कि जबलपुर आने वाली श्रमिक स्पेशल ट्रेनों की संख्या 8 या उससे अधिक हो सकती है।

मुंबई में सर्वाधिक मजदूर जबलपुर जिले के 
जिले के लगभग 9000 श्रमिक दूसरे प्रदेशों में फंसे थे यह जानकारी जिला प्रशासन की ओर से राज्य शासन को भेजी गई है सबसे ज्यादा मजदूर महाराष्ट्र के मुंबई में है या इनकी संख्या लगभग 4000 है।सबसे पहले इन मजदूरों को वहां से लाने की तैयारी की जा रही है।

जिले के कहां पर फंसे हैं कितने श्रमिक 
मुंबई           4000
गुजरात        2500
राजस्थान     1000
अन्य प्रदेश    1500

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here