सरताज के बयान पर बोले BJP प्रदेश अध्यक्ष, ‘मोदी जैसा कोई दूसरा नेतृत्व देश में नहीं’

rakesh-singh-Speaking-on-the-statement-of-Sartaj-no-other-leader-like-Modi-is-in-the-country

जबलपुर |  भाजपा से बागी होकर कांग्रेस की टिकट पर विधानसभा चुनाव लड़ने वाले प्रदेश के वरिष्ठ नेता सरताज सिंह ने तीन राज्यों में बीजेपी की हार के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जिम्मेदार बताया है| उन्होंने सीधे तौर पर केंद्र सरकार की नीतियों को भी हार का कारन बताया| उनके इस बयान के बाद प्रतिक्रियाएं सामने आ रही हैं| सरताज सिंह के बयान पर बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह का कहना है कि सरताज सिंह अब बीजेपी का हिस्सा नहीं हैं, उनके वक्तत्व से लेना देना नहीं है, इसलिए वो जो भी कहेगें हमारे अनुकूल नहीं कहेगें| उन्होंने कहा कि देश में आज नरेंद्र मोदी जैसा लोकप्रिय नेतृत्व दूसरा कोई नहीं है,  

राकेश सिंह ने प्रियंका गांधी को महासचिव बनाने पर कहा कि कांग्रेस मज़बूरी में प्रियंका गांधी को लेकर आई है| इससे बीजेपी को कोई फर्क नहीं पड़ेगा| उन्होंने कहा राहुल गांधी को देश स्वीकार नहीं कर रहा था, कांग्रेस के कार्यकर्त्ता भी राहुल गांधी को स्वीकार नहीं कर पा रहे थे| वहीं उन्होंने प्रियंका गांधी को लेकर बयान बाजी करने पर नेताओ को सोच समझ कर संयम भाषा का इस्तेमाल करने की सलाह दी| 

गौरतलब है कि विधानसभा चुनाव के दौरान बीजेपी से कांग्रेस में शामिल हुए वरिष्ठ नेता सरताज सिंह ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने तीन राज्यों में बीजेपी की हार पर पीएम मोदी को जिम्मेदार ठहराया है। सरताज सिंह का कहना है कि मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में विधानसभा चुनाव की हार का कारण मंत्री नहीं बल्कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद जिम्मेदार हैं। वही उन्होंने बाबूलाल गौर को लेकर कहा कि अगर बीजेपी उन्हें टिकट नही देगी को कांग्रेस उन्हें भोपाल से प्रत्याशी बनाएगी और यह सीट कांग्रेस के कब्जे में होगी।  मीडिया से चर्चा को दौरान सरताज सिंह ने पीएम मोदी पर निशाना साधा और कहा कि मध्यप्रदेश, छतीसगढ़ और राजस्थान का चुनाव मुख्यमंत्रियों के कारण नहीं बल्कि मोदीजी के कारण हारे हैं। नोटबन्दी और जीएसटी जैसा फैसला हार का बड़ा कारण बना। उन्होंने कहा कि जनता को मोदीजी से जो अपेक्षा थी, उस पर भी वो 15-20 प्रतिशत ही पूरी कर पाए। लोगों के फीडबैक के आधार पर यह कह रहा हूँ। जब मोदीजी का नाम नहीं था तब मैं मोदीजी का समर्थक था।