जबलपुर में एक दिन पहले ही किया गया रावण का पुतला दहन, जानें क्या है अनोखी परंपरा

पंजाबी दशहरे में यहां रावण के 61 फीट ऊंचे और मेघनाद के 55 फीट ऊंचे विशाल पुतलों का दहन किया गया।

जबलपुर, संदीप कुमार। जबलपुर (Jabalpur) में बीते 70 सालों से चली आ रही अनोखी परंपरा के तहत इस साल भी दशहरे के एक दिन पहले ही जबलपुर में पंजाबी दशहरा धूमधाम से मना लिया गया। इसके लिए, शहर के ग्वारीघाट मैदान में एक भव्य कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसे देखने बड़ी संख्या में लोग जुटे पंजाबी दशहरे में मंच से रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों और बैंड की पेशकश की गई।

यह भी पढ़े…Nobel Prize 2022 : भौतिकी में नोबेल पुरस्कार का ऐलान, इन तीन वैज्ञानिकों को मिलेगा सम्मान

इस आयोजन में भगवान श्रीराम-लक्ष्मण, माता सीता और रामभक्त हनुमान की अद्भुत झांकी निकाली गई और फिर वो पल आया जिसका सबको इंतजार था। पंजाबी दशहरे में यहां रावण के 61 फीट ऊंचे और मेघनाद के 55 फीट ऊंचे विशाल पुतलों का दहन किया गया। बुराई पर अच्छाई की जीत के प्रतीक रावण के दहन का ये नज़ारा गगनचुंबी आतिशबाजी के बीच देखने लायक था।

जबलपुर में एक दिन पहले ही किया गया रावण का पुतला दहन, जानें क्या है अनोखी परंपरा

यह भी पढ़े…झाड़ फूंक करने वाले कथित बाबाओं ने शराब पिलाकर नव विवाहिता से किया दुष्कर्म

पंजाबी दशहरे के इस कार्यक्रम का आयोजन हमेशा की तरह जबलपुर की पंजाबी हिन्दू एसोसिएशन द्वारा किया गया जिसके सदस्य और कांग्रेस विधायक तरुण भनोत ने एक दिन पहले मने दशहरे की सबको शुभकामनाएं दीं। इस दौरान मौजूद जबलपुर के महापौर जगत बहादुर सिंह अन्नू ने कहा कि अधर्म पर धर्म की जीत के इस त्यौहार के साथ ही वो शहर के चौमुखी विकास का संकल्प ले रहे हैं।