कोरोना संकटकाल में भी पश्चिम मध्य रेलवे ने की बंपर कमाई, बनाया रिकॉर्ड

Now-masaj-available-in-traveling

जबलपुर, संदीप कुमार। कोरोना संकटकाल में एक तरफ जहाँ अधिकांश उद्योग और सरकारी निकाय घाटा झेलते नज़र आए वही इस संक्रमण काल में भी पश्चिम मध्य रेलवे ने बंपर कमाई का रिकॉर्ड बनाकर सबको चौंका दिया है। पश्चिम मध्य रेल्वे ने महज 3 माह में हजार का जादुई आंकड़ा पार कर दिया। आपको जानकर हैरानी होगी कि पिछले साल के मुकाबले इस साल बीती तिमाही में पश्चिम मध्य रेलवे ने 65 फीसदी ज्यादा कमाई की है।

Employment: रोजगार को लेकर बड़ा फैसला, कैबिनेट मंत्री बोले- विभाग प्रोत्साहन राशि दें

बीते साल के मुकाबले इस साल बम्पर कमाई
पश्चिम मध्य रेल्वे ने बीते साल 2019-20 में जहां अप्रैल, मई और जून महीनों में 745 करोड़ रुपए कमाए थे वहीं इस साल अप्रैल, मई और जून माह में पश्चिम मध्य रेलवे ने 1262 करोड़ रुपयों की कमाई की है। पश्चिम मध्य रेल्वे ने गुड्स और पैसेंजर कैरेज दोनों मदों में बंपर कमाई की। गुड़्स कैरेज यानि माल ढुलाई से जहां पश्चिम मध्य रेल्वे ने तीन माह में 1028 करोड़ रुपए कमाए वहीं पैसेंजर ट्रेनों से डब्लूसीआर ने 155 करोड़ रुपयों की कमाई की है।

कोरोना में भी रेल्वे ने किया लगातार काम
रेल्वे की बंपर कमाई के पीछे देश के अधिकांश राज्यों में लॉकडाउन और कोरोना कर्फ्यू के रिस्ट्रक्शन लागू होने से भी जोड़ा जा रहा है जिसके बीच रेल्वे राउंड द क्लॉक काम किया, वहीं कोरोना काल में स्पेशल ट्रेनों के रुप में चली ट्रेनों में सिर्फ दिव्यांगों और गंभीर मरीजों को किराए में सब्सिडी दी गई जिससे भी रेल्वे को फायदा हुआ। पश्चिम मध्य रेल्वे के सीपीआरओ राहुल जयपुरियार ने इस रिकॉर्ड कमाई को ज़ोन की बड़ी उपलब्धि बताया है जिनके मुताबिक आने वाले समय में पश्चिम मध्य रेलवे का ध्यान इंफ्रास्ट्रक्चर से जुड़े कामों को तेजी से पूरा करके लाभ कमाने पर होगा।