जबलपुर : फिर आया संस्कारधानी अस्पताल का कारनामा सामनें, मरीज का एक दिन का बिल बनाया 90 हजार

जब कलेक्टर से गुहार लगाई तो 60000 रु की बड़ी राशि जिला प्रशासन ने कम करवाई

जबलपुर, संदीप कुमार। जबलपुर के संस्कारधानी अस्पताल में आखिर क्यों जिला प्रशासन लगातार उनकी लापरवाही को देखते हुए भी कार्यवाही नहीं कर रहा है, यह एक बड़ा सवाल अब बन गया है, आज फिर एक बार पुनः संस्कारधानी अस्पताल का काला कारनामा सामने आया है, जहां पर की मरीज के परिजनों को अस्पताल प्रबंधन ने 90000 रु का बिल थमा दिया, इस बीच परिजनों ने मरीज को मेडिकल कॉलेज जब ले जाने को कहा तो उन्होंने 1 दिन का बिल 90000 रु थमा दिया जिसे देखकर मरीज के परिजनों के होश उड़ गए।

Neemuch Accident: मजदूरों से भरी ट्रैक्टर-ट्रॉली पलटी, 16 घायल, 4 गंभीर

मरीज के परिजनों ने लगाई अस्पताल प्रबंधन से गुहार
महज 1 दिन का संस्कारधानी अस्पताल में 90000 रु बिल देखकर मरीज के परिजनों के होश उड़ गए, उन्होंने अस्पताल प्रबंधन से मदद की गुहार भी लगाई पर प्रबंधन इस ओर ध्यान नहीं दिया इस बीच मरीज के परिजनों ने जबलपुर कलेक्टर के केयर बाय व्हाट्सएप नंबर पर इस पूरे मामले की जानकारी दी,कलेक्टर के निर्देश पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने तुरंत इस पूरे मामले को संज्ञान में लिया और मरीज के परिजनों को राहत देते हुए ना सिर्फ बिल में रियायत दी गई बल्कि संस्कारधानी अस्पताल के खिलाफ कार्यवाही के भी निर्देश दिए गए।

अंतर्राज्यीय सेक्सटॉर्सन गिरोह का पर्दाफ़ाश, अधिकारियों को बनाया शिकार

90000 रु नहीं 30000 रु ही दिए गए संस्कारधानी अस्पताल को
अपने कारनामों के लिए विख्यात संस्कारधानी अस्पताल ने 90000 रु का बिल मरीज के परिजनों को दे दिया जिसके बाद परिजनों ने जब कलेक्टर से गुहार लगाई तो 60000 रु की बड़ी राशि जिला प्रशासन ने कम करवाई मरीज के परिजनों ने महज 30000 रु अस्पताल प्रबंधन को दिए और फिर अपने मरीज को मेडिकल कॉलेज में शिफ्ट करा दिया।