सुपारी देकर पत्नी ने ही करवाई पति की नृशंस हत्या

जबलपुर, डेस्क रिपोर्ट।   जबलपुर के पनागर क्षेत्र के मचला गांव में हुए जघन्य हत्याकांड में शामिल आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी कोई और नहीं मृतक की पत्नी और दोस्त ही निकले, दरअसल एक खेत में कटी मुंडी और दूसरे खेत में धड़ मिलने की वारदात में  फरसे से सिर काटकर हत्याकांड को बड़े शातिर अंदाज से अंजाम दिया गया था। पड़ताल के दौरान पुलिस ने मौके पर मिले साक्ष्य, मृतक का मोबाइल और ग्रामीणों के बयान के आधार पर गांव के ही रहने वाले एक संदेही को उठाया था। पुलिस पूछताछ में पूरा मामला खुल गया। मृतक नरेश मिश्र की पत्नी ने दो लाख रुपए की सुपरी देकर हत्या कराई।

यह भी पढ़े.. Heart Break को कैसे झेलती हैं ये राशियां, किसको है सावधान रहने की जरूरत

इस कत्ल का खुलासा करते हुए पुलिस ने बताया कि मृतक नरेश कुमार मिश्र की पत्नी उषा मिश्र ने नरेश के मित्र अखिलेश विश्वकर्मा को रुपयों का प्रलोभन देते हुए हत्या करने के लिए कहा था। उषा के कहने पर ही अखिलेश ने प्लान के मुताबिक वारदात को अंजाम देने के बाद उषा को फोन कर बता भी दिया था, कि काम हो गया है। लाश खेत में पड़ी और फरसा धुलकर रख दिया है। उषा मिश्र से हुई पूछताछ में यह बात सामने आई, कि पति नरेश शराब पीकर उसके साथ गाली-गलौज सहित मारपीट करता था, जिससे वह परेशान रहती थी। उषा अपने बेटे के नाम पर कुछ प्रापर्टी करने के लिए कहती थी, तो नरेश मारपीट करता था।

ढाबा में काम करती थी उषा
नरेश मिश्र ने कुछ साल पहले कटनी स्थित ढाबा में काम करने वाली उषा कुशवाहा से विवाह कर लिया था। उषा को लेकर नरेश जब अपने साथ रखने गांव मचला लेकर आया तो सामाजिक रूप से उसका विरोध भी हुआ था। नरेश ने गांव सहित अपने लोगों को बताया, कि उसने उषा से विधिवत शादी की है। उषा कुशवाहा नाम बाद में बदलकर उषा मिश्र भी हो गया। पंचायत सहित अन्य रिकार्ड में उषा मिश्र पति नरेश कुमार मिश्र दर्ज है। उषा कुशवाहा पहले भी शादी कर चुकी थी। उषा का विवाह कटनी में हुआ था। पहले पति से उसको एक बेटा भी है, जिसकी उम्र अभी 13 साल के आसपास है। उषा और पहले पति का बेटा अपनी मां उषा और कटनी निवासी पिता के पास आता-जाता रहता था।

नरेश-उषा की नहीं थी कोई औलाद
नरेश मिश्र पेशे से ट्रक डाइवर था। ट्रक चलाने के दौरान ही उसकी मुलाकात उषा से ढाबा में ही हुई थी। दोनों में मेल जोल बढ़ा और उषा अपने पति को छोड़कर बेटे सहित नरेश के साथ रहने तैयार हो गई। ड्राइवर नरेश मिश्र उषा को कटनी से अपने गांव मचला लेकर आया गया था। शादी के कई साल बीत जाने के बाद भी नरेश और उषा के कोई बच्चा नहीं हुआ। गांव मचला में नरेश की खेतीहर जमीन सहित अन्य संपत्ति है। नरेश के माता पिता की मौत हो जाने के बाद संपूर्ण संपत्ति नरेश मिश्र के नाम पर आ गई। नरेश अपने माता-पिता का इकलौता पुत्र था। उषा के नाम पर घर की कोई चल या अचल संपत्ति नहीं थी। उषा मिश्र ने पूर्व में पनागर थाना में पति नरेश के विरुद्ध दहेज प्रताड़ना की शिकायत दर्ज भी कराई थी। पुलिस ने वारदात का खुलासा कर आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है