सेना में भर्ती के नाम पर युवकों से ठगी, दिया फर्जी नियुक्ति पत्र, जबलपुर में जी आर सी मे हुआ खुलासा

जबलपुर, संदीप कुमार। मध्यप्रदेश के जबलपुर स्थित ग्रेनेडियर्स रेजीमेंटल सेंटर (जीआरसी) में आज उस वक्त हंगामा हो गया, जब नायक सूबेदार ने चंदौली व गाजीपुर यूपी फर्जी नियुक्ति पत्र लेकर सेना में नौकरी पाने आए 9 युवकों को पकड़ लिया। नियुक्ति पत्र फर्जी होने की जानकारी से युवक भी स्तब्ध रह गए, उन्हे उक्त नियुक्ति पत्र वाराणासी स्थित सैन्य क्षेत्र के किसी मेजर अजय कपूर ने देकर भेजा है, जिसके बदले युवकों ने अपनी जमीन, खेत, घर के गहने, ब्याज पर पांच-पांच लाख रुपए दिए है। पुलिस ने इस मामले में युवकों से पूछताछ भी शुरु कर दी है।

आयुष्मान कार्ड के बावजूद इलाज के वसूले पैसे, संस्कारधानी का मामला

पुलिस के अनुसार ग्रेनेडियर्स रेजीमेंटल सेंटर में 25 अगस्त को यूपी के गाजीपुर व चंदौली से 9 युवक सेना में भरती होने का पत्र लेकर ट्रेनिंग के आए, सभी को 14 दिन के लिए क्वारेंटीन कर दिया गया, इसके बाद जब भर्ती के लिए दिया गया नियुक्ति पत्र खोलकर देखा तो उसमें किसी मेजर अजय के नाम से पत्र जारी किए गया था, इसके अलावा युवकों के पास कोई भी अह्म दस्तावेज नहीं मिले, जीआरसी के अधिकारियों ने संदेह होने पर वाराणासी आर्मी रिकू्रटमेंट बोर्ड भेजा तो पता चला कि मेजर अजय के नाम से कोई अधिकारी वहां पर पदस्थ ही नहीं है, जिसका भरती में जिक्र है, यहां तक पता चला कि अभी भरती की प्रक्रिया तो पूरी ही नही की गई है।

मेहगांव में 4 बच्चों के डूबने पर प्रभारी मंत्री राजपूत ने जताया दुख , 21 को मृतकों के परिजनों से मिलेगे, परिजनों को देंगे 4 लाख की सांत्वना राशि

यह जानकारी पिछले दिन जीआरसी को मिली जिसमें युवकों के पास मिले नियुक्ति पत्र को फर्जी बताया गया, इसी तरह पत्र सेना मुख्यालय से भी जीआरसी को मिला जिसमें जीआरसी के अधिकारियों को आगाह किया गया कि मेजर अजय के नाम से फर्जी भरती कराने वाला एक गिरोह यूपी व उत्तराखंड में सक्रिय है, जिसके द्वारा मिले फर्जी नियुक्ति पत्र लेकर युवक सेना के कई सेंटर में प्रशिक्षण के लिए पहुंचे है। नियुक्ति पत्र फर्जी होने की जानकारी के बाद सभी 9 युवकों को सेना पुलिस ने हिरासत में ले लिया है, वहीं इन सभी के खिलाफ गोरखपुर थाना में शिकायत दी गई है जिस पर पुलिस ने प्रकरण दर्ज कर लिया है।

स्कूली छात्रा की संदेहास्पद परिस्थितियों में मिली लाश, ईलाके में सनसनी

सेना पुलिस को पूछताछ में युवकों ने बताया कि फरवरी 2021 में वाराणासी स्थित बीआरओ में सेना में भरती के लिए दौड़ आयोजित हुई जिसमें सभी 9 युवक शामिल हुए वे सफल भी हो गए, इसके बाद लिखित परीक्षा व मेडिकल जांच होती लेकिन कोरोना संक्रमण के चलते लिखित परीक्षा टल गई। युवकों ने यह भी जानकारी दी कि दौड़ के दौरान धारापुर के रायपुर चंदौली में रहने वाला रविकांत उर्फ मक्खू यादव मिला था उसने युवकों को सेना में भर्ती कराने का ऑफर दिया था उसी वक्त मक्खू ने सभी के मोबाइल नम्बर ले लिए और अपने नम्बर दिए थे।