अंधे कत्ल का हुआ पर्दाफाश बहु और पडोसी निकला हत्यारा, पुलिस ने किया आरोपियों को गिरफ्तार

झाबुआ, विजय शर्मा 

7 अगस्त 2020 को फरियादी माना मचार, निवासी नाड ने चौकी कुंदनपुर में सूचना दी थी कि उसका भाई पिदिया मचार जिसकी उम्र 60 साल है उसने खेत के एक बैर के पेड पे फांसी लगा ली है, जिसकी मृत्यु हो गई है। इस पर थाना रानापुर ने मर्ग कायम कर जांच शुरु कर दी थी। मर्ग जांच में चौकी प्रभारी कुंदनपुर तथा एफएसएल अधिकारी आर एस मुजाल्दा द्वारा घटनास्थल पहुंचे।

घटनास्थल का निरीक्षण एवं शव परीक्षण, पंचनाम के दौरान एफएसएल अधिकारी मुजाल्दे को मृतक की मृत्यु संदिग्ध लगने के कारण संपूर्ण घटनाक्रम से वरिष्ठ अधिकारियो को अवगत कराया गया। इस पर पुलिस अधीक्षक आशुतोष गुप्ता द्वारा अति पु.अधी. विजय डावर व थाना प्रभारी राणापुर को घटनास्थल का और शव का निरीक्षण करने हेतु निर्देर्शित किया गया।

वही निष्कार्ष में पाया गया कि मृत्यु फांसी लगाने से नहीं बल्कि इसे मार कर टांगा गया है। घटना को छिपाने के लिए हत्या का आत्महत्या का रूप दिया गया है। प्रकरण की गंभीरता को देखते हुय पुलिस अधीक्षक गुप्ता द्वार संपूर्ण प्रकरण के खुलासे के लिय अति. पुलिस अधीक्षक विजय डावर को निर्देर्शित किया जिस पर से उनके द्वार अलग अलग टीम गठित कर इस घटनाक्रम की विस्तार से जांच में जुट गई।

वही मुखबीर की सुचना पर यह बताया गया कि पडोस में रहने वाला हरिश भूरिया जिसकी उम्र 25 वर्ष है, जोकि निवासी दौतड का रहने वाला है, उसका मृतक की बहू रागुबाई के यहां पर आना जाना रहता था । इस पर आरेपी हरिश से सख्ति से पुछताछ करने पर आरोपी ने पुलिस को बताया कि रागुबाई का पति रम्मू मचार गुजरात के अहमदाबाद तरफ मजदुरी करने गया है, तब से उसका रागुबाइ के घर अत्याधिक आना जाना था। इस बात की भनक मृतक पिदिया को लग गई। जिस पर से आरोपी हरिश ने पिदिया को उसी के घर जाकर जान से मारने का षडयंत्र रचा ओर उसे नुकिले पत्थर से एव डंडे से पिदिया के सिर पर मारा तथा रागुबाइ्र्र ने भी पत्थर से पिदिया के सिर पर वार किया। जिस पर से घटनास्थल पर ही पिदिया की मौत हो गई।

दोनो आरोपियों ने घटना को छुपाने के लिये घटनास्थल पर पडी रस्सी को साथ ले जाकर पिदिया को उठाकर माना के खेत के पास सेडे में बैर के पेड से लटका दिया। जिससे की ऐसा प्रतित हो की पिदिया ने आत्महत्या की है।

घटनास्थल का बारिकी से निरीक्षण व घटनास्थल पर शर्ट के टूटे हुए बटन से तथा आरोपी से जब्त शर्ट जिसका बटन टूटा हुआ था इसी बटन के माध्यम से संपूर्ण घटनाक्रम का खुलासा हुआ। उक्त घटना के जांच अधिकारि अति. पुलिस अधीक्षक विजय डावर, अनुविभागीय अधिकारी ईडला मौर्य , थाना प्रभारी रानापुर निरीक्षक कौशल्या चौहान,  उक्त टीम को पुलिसअधीक्षका झाबुआ द्वारा पुरूस्कृत करने की भी घोषणा की गई है।