झाबुआ में सीएम ने जाहिर की नाराजगी, कहा – नेता हो या अधिकारी जनता की सेवा के लिए होते हैं

इस बार अफसरों की बजाय पार्टी नेताओं पर मामा की नजरें टेढ़ी हो गई।

झाबुआ, डेस्क रिपोर्ट। प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chouhan) रविवार को एक बार फिर झाबुआ में सभा के दौरान मंच से कहा कि नेता हो या अधिकारी जनता की सेवा के लिए होते हैं जन सेवकों और अधिकारियों को जनप्रिय होना चाहिए। जो जनता के लिए काम नहीं करेगा उसको हटा दिया जाएगा। पहले झाबुआ कलेक्टर की शिकायत मिलती मिली थी उन्हें हटा दिया गया। इस बार अफसरों की बजाय पार्टी नेताओं पर मामा की नजरें टेढ़ी हो गई।

बता दें कि झाबुआ के राजवाड़ा चौक पर नगर पालिका चुनाव में बीजेपी पार्षद उम्मीदवारों के समर्थन में मुख्यमंत्री की सभा करने पहुंचे, जैसे ही मुख्यमंत्री ने देखा कि लोग धूप में खड़े हैं और नेताओं के लिए टेंट लगाया गया है। उन्होंने नेताओं पर नाराजगी जाहिर की और आगे कहा कि मैं जानता हूं कि आज धूप तेज है। पार्टी ने थोड़ी कंजूसी कर दी, जनता धूप में हैं और हम यहां टैंट में बैठे हैं, इसे खोल दीजिए, जनता धूप में बैठी है तो मैं भी धूप में से ही बोलूंगा। इसके बाद मंच से नीचे आकर धूप में खड़े हो गए और सभा को संबोधित किया

सीएम ने कहा कि मामा का यह सफाई अभियान जारी रहेगा। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को खाद्यान्न वितरण योजना की भी शिकायत मिली है मुख्यमंत्री ने कहा कि मामले की जांच जिले के बाहर से होगी, जिला खाद्य अधिकारी एके त्यागी पर भी जांच के बाद कार्रवाई होगी। सीएम ने कहा आदिवासी छात्रावासों की शिकायत आ रही है, किसी कोई भी दोषी बख्शा नहीं जाएगा। मामा का सफाई अभियान जारी रहेगा ।

देवझिरी में मुख्यमंत्री ने लोगों से संवाद करते हुए प्रधानमंत्री आवास योजना, उज्वला योजना, पेंशन, लाडली लक्ष्मी आदि योजनाओं की जानकारी ली और कहा कि किसी भी योजना के लिए किसी को पैसा देने की जरूरत नहीं है कोई पैसा मांगे तो सीधे मामा को शिकायत करो मामा किसी को नौकरी करने लायक नहीं छोड़ेगा।