पूर्व केंद्रीय मंत्री ने सासंद को बताया डकैत और दलाल,” कागजों पर खोद डाले हैंडपंप”

हर घर में नल जल पहुंचाने वाली योजना मे ही भ्रष्टाचार कर दिया।

झाबुआ, डेस्क रिपोर्ट। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और विधायक कांतिलाल भूरिया ने बीजेपी सांसद गुमान सिंह डामोर के बारे में असंसदीय भाषा का प्रयोग किया है। उन्होंने कुछ दिन पहले भ्रष्टाचार के एक मामले में अदालत के निर्णय के आधार पर डामोर पर जमकर निशाना साधा है।

यह भी पढ़े… जबलपुर : बुडैली गांव के युवक की लाश जंगल में मिली, हत्या की आशंका

हम आपको बता दें कि कांग्रेस के स्थापना दिवस के मोके पर इसमें शिरकत करने के लिए विधायक कांतिलाल भूरिया पहुंचे थे। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष केंद्र सरकार में मंत्री रह चुके कांतिलाल भूरिया ने इस अवसर पर 600 करोड रुपए के कथित भ्रष्टाचार के आरोपों में घिरे रतलाम-झाबुआ संसदीय क्षेत्र के सांसद गुमान सिंह डामोर के बारे में जमकर भड़ास निकाली। उन्होंने कहा कि “जब डामोर सरकारी नौकरी में थे, बाबू गिरी किया करते थे तो हमें भी अच्छा लगता था कि आदिवासी वर्ग का कोई व्यक्ति यहां तक पहुंचा तो। लेकिन यह तो दलाल निकले। former union minister kantilal bhuria told the mp a dacoit and a pimp handpump dug on paper भूरिया ने कहा कि डामोर तो डकैत हैं और उन्होंने कागजों पर ही हैंडपंप खोदे। जल नल योजना के करोड़ों रुपए खा गए।

यह भी पढ़े…निरीक्षण पर गए मंत्री गोविन्द राजपूत की अफसरों को दो टूक, गुणवत्ता से समझौता नहीं होगा

दरअसल, दो दिन पहले गुमान सिंह डामोर के खिलाफ अलीराजपुर की एक अदालत ने मामला दर्ज करने के आदेश दिए थे। उन पर आरोप है कि फ्लोरोसिस निवारण के लिए झाबुआ अलीराजपुर क्षेत्र में जो 600 करोड़ रुपए की योजना मंजूर हुई थी उसमें व्यापक अनियमितताएं हुई हैं। झाबुआ अलीराजपुर के फ्लोरोसिस प्रभावित क्षेत्रों में शुद्ध पेयजल पहुंचाने के लिए हैंडपंप लगाए जाने थे। दरअसल इन क्षेत्रों में फ्लोरॉसिस के कारण कई लोग दिव्यांग है और उनके पैरों की हड्डियां टेढ़ी-मेढ़ी हो गई हैं। आरोप है कि सरकारी खजाने से लगभग 600 करोड रुपए खर्च हुए लेकिन गांव में शुद्ध जल के लिए हैंडपंप नहीं खोदे गये। अलीराजपुर जिले में आज भी 500 से अधिक गांव में एक हजार के पार फ्लोरोसिस के मरीज हैं। अलीराजपुर की कोर्ट ने अभी हाल ही में इस मामले में पीएचई विभाग के तत्कालीन अभियंता और झाबुआ के मौजूदा सांसद गुमान सिंह डामोर पर केस दर्ज करने के आदेश दिए हैं। इसमें तत्कालीन कलेक्टर गणेश शंकर मिश्रा सहित पीएचई के दो अफसरों के खिलाफ भी मामला दर्ज हुआ है। हालांकि डामोर इस मामले में उच्च अदालत का दरवाजा खटखटाने की बात कह चुके हैं। इसी मामले में कोर्ट में 17 जनवरी को सुनवाई होनी है और उन सभी आरोपियों को कोर्ट में उपस्थित होना है।