कटनी। वंदना तिवारी।

धान खरीदी केन्द्रों में अवैध वसूली से परेशान एक किसान को लोकायुक्त की शरण लेना पड़ी। किसान की शिकायत पर लोकायुक्त पुलिस जबलपुर ने बुधवार को धान खरीदी केन्द्र बिलहरी के प्रभारी विनीत कुमार अग्रवाल को 2200 रुपये की रिश्वत लेते हुए दबोचा।

पेमेंट स्लिप देने मांगे थे चार हजार-
लोकायुक्त पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार रीठी तहसील के ग्राम बरखेड़ा निवासी राजेन्द्र प्रसाद ने बिलहरी खरीदी केन्द्र में धान का विक्रय किया था। धान खरीदी के बाद पेमेंट स्लिप जारी करने सहकारी समिति बिलहरी के सहायक लेखापाल एवं केन्द्र प्रभारी विनीत कुमार अग्रवाल द्वारा चार हजार रुपये की मांग की गई। जिसकी शिकायत राजेन्द्र प्रसाद ने लोकायुक्त एसपी जबलपुर से की। एसपी लोकायुक्त ने शिकायत के बाद रुपये मांगने की बातचीत की रिकार्डिंग कराई एवं पुष्टि होने पर कार्यवाही के लिए टीम भेजी। बुधवार को जैसे ही किसान ने सहकारी समिति में विनीत अग्रवाल को 2200 रुपये दिए टीम ने दबोच लिया। लोकायुक्त डीएसपी दिलीप झरवड़े के अनुसार किसान से 2200 रुपये रिश्वत लेते हुए पकड़े गए सहायक लेखापाल विनीत कुमार अग्रवाल के विरुद्ध भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत कार्यवाही की गई है।
तीन करोड़ से अधिक भुगतान लंबित
जानकारी के अनुसार बिलहरी में 404 किसानों से 26796 क्विंटल धान की खरीदी की गई है। खरीदी गई धान के लिए ऋण वसूली के बाद देय राशि चार करोड़, 83 लाख, 61692 रुपये के विरुद्ध अब तक किसानों को मात्र एक करोड़ 32 लाख, 17690 रुपये का भुगतान किया गया है। किसानों को तीन करोड़ रुपये से अधिक का भुगतान होना है।