आधीरात को जिला अस्पताल पहुंचे सीएमएचओ, अव्यवस्थाओं के चलते डॉक्टर को जमकर लगाई फटकार

सीएमएचओ (CMHO) डॉ प्रदीप मुड़िया द्वारा रात में तकरीबन 1:10 पर जिला अस्पताल (District Hospital) का औचक निरीक्षण किया गया। वही ड्यूटी से नदारत डॉक्टरों को जमकर फटकार भी लगाई।

कटनी, अभिषेक दुबे। कटनी (Katni) जिले में कोरोना मरीजों (Corona patients) के लिए ऑक्सीजन (Oxygen) और रेमडेसिवीर इंजेक्शन (Remdesiveer Injection) की कमी की शिकायत के चलते सीएमएचओ (CMHO) डॉ प्रदीप मुड़िया द्वारा रात में तकरीबन 1:10 पर जिला अस्पताल (District Hospital) का औचक निरीक्षण किया गया। जहां ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर मृगेन्द्र श्रीवास्तव एवं डॉ राजीव द्विवेदी दोनों ड्यूटी से नदारद मिले, जिसके बाद डॉ प्रदीप मुड़िया द्वारा कड़ी फटकार लगाते हुए किसी भी प्रतिकूल घटना होने सम्बंधित डॉक्टर पर एफआईआर (FIR) करने की बात कही गई।

यह भी पढ़ें…मरीजों को न हो कोई परेशानी, अस्पताल के बाहर कोरोना प्रभारी मंत्री ने बिताई रात

दरअसल जिला अस्पताल कटनी में अपनी जान के लिए महामारी से लड़ रहे कोरोना वायरस संक्रमित मरीज और उनके परिजन जिला अस्पताल की अव्यवस्थाओं को खुद ही उजागर कर रहे थे। लोगों का आरोप है कि समय पर उपचार नहीं मिलने और ऑक्सीजन की कमी से हमारे अपनों की जान गई है वहीं कुछ लोगों ने वीडियो बनाकर भी सोशल मीडिया (social media) पर डालकर अपना दर्द बयां किया। वहीं जिला अस्पताल प्रबंधन द्वारा यह दावा किया जा रहा है कि व्यवस्थाएं पूरी है और इलाज समय पर मिल रहा है इसी बीच सोमवार आधीरात को करीब 1:00 बजे मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ प्रदीप मुड़िया अपने स्टाफ के साथ अस्पताल पहुंचे और औचक निरीक्षण किया, जहां अस्पताल की पूरी पोल खुल कर रह गई। नाइट ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर मृगेन्द्र श्रीवास्तव और डॉक्टर राजीव द्विवेदी दोनों ही आराम फरमाते मिले, और फिर क्या था सीएमएचओ उनपर भड़क उठे और दोनों को जमकर फटकार लगाई। सीएमएचओ साहब ने कहा कि अस्पताल में मरीज मर रहे हैं और आप वहां आराम फरमा रहे हैं, वही यह तक कह डाला कि यदि किसी मरीज की ऑक्सीजन से मौत होती है, तो दोनों डॉक्टर के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाएंगे। आप भी सुनिए सीएमएचओ साहब किस तरह अपनी नाराजगी व्यक्त कर रहे हैं।

गौरतलब है कि कटनी जिला अस्पताल में मरीज काफी गंभीर स्थिति में है और सही से इलाज नहीं मिल पाने के कारण काफी परेशान भी है वहीं मरीजों को देखने तक के लिए रात में अस्पताल में ना तो कोई डॉक्टर है और ना ही किसी भी तरह की व्यवस्था देख रही थी वही मरीज और उनके परिजन वीडियो के माध्यम से लोगों से अपना दर्द बयां करते हुए यह कहते नजर आ रहे थे कि ना यहां कोई व्यवस्था है ना ही कोई डॉक्टर है और ना ही यहां ऑक्सीजन मुहैया कराया गया है। जिसको लेकर सीएमएचओ डॉ प्रदीप मुड़िया से मरीजों का दर्द देखा नहीं गया और दोनों डॉक्टरों को फोन कर जमकर लताड़ा।

यह भी पढ़ें…कोरोना कर्फ्यू में चल रही गुटखा फैक्ट्री पकड़ी, लाखों का गुटखा जब्त, कालाबाजारी की आशंका