Katni News: पढ़ाई के बजाए कन्या छात्रावास में खाना पकाते नजर आईं मासूम बच्चियाँ, वीडियो हुआ वायरल, देखें

Manisha Kumari Pandey
Published on -

Katni News: कटनी जिले के बड़वारा विकासखंड के एक कन्या छात्रावास की मासूम बच्चियों द्वारा खाना बनाते हुए एक वीडियो सामने आया है। यह वीडियो जमकर सोशल मीडिया पर वायरल वायरल हो रहा है। जिसकी खूब आलोचना भी हो रही हो। वीडियो में साफ देखा जा सकता है की छात्रावास की छात्राएं यूनिफ़ॉर्म में ही रसोई में खाना बना रही हैं। दरअसल पूरा मामला बड़वारा विकासखंड क्षेत्र के भुड़सा ग्राम में स्थित कस्तूरबा गांधी कन्या छात्रावास का है। जहां छात्रावास में रहने वाली छात्राओं से कथित तौर पर रसोई का कार्य चूल्हा-चौका कराया जा रहा है।

 सरकार देती छात्रावास को मोटी रकम

कस्तूरबा गांधी छात्रावास देश के प्रसिद्ध शैक्षणिक संस्थाओं में से एक है। जहां दाखिला लेने के लिए छात्राओं को टेस्ट भी देना पड़ता। बावजूद इसके जहां बच्चियों को पढ़ाई पर समय व्यतीत करना चाहिए, उन्हें रसोई करना पड़ रहा है। हालांकि छात्रावास में भोजन बनाने के लिए कर्मचारी नियुक्त किए गए है। सरकार इन छात्राओं की बेहतर देखरेख के लिए छात्रावास प्रभारी को मोटी रकम देती है।

पहले भी आ चुके हैं ऐसे मामले

बता दें की बड़वारा क्षेत्र में पहले भी ऐसे मामले सामने आ चुके हैं। जहां बच्चों से पढ़ाई की जगह काम कराया गया हो। इससे पहले भी इस तरह के वीडियो वायरल हो चुका। बार-बार ऐसे मामले अधिकारियों की लापरवाही दर्शाते हैं। लोग सरकार ने इस केस में सख्त कार्रवाई की मांग कर रहे हैं।

छात्रावास की प्रभारी अधीक्षिका ने कही ये बात

इस सम्बन्ध में छात्रावास की प्रभारी अधीक्षिका यशोदा से इस संबंध में बात की गई। उन्होनें सफाई देते हुए कहा कि सभी रसोईया शादी समारोह में शामिल होने के लिए छुट्टी पर हैं। उन्होनें खुद छुट्टी ले रखी है। संभावना है कि इसी दौरान बच्चों से काम कराया गया होगा।
कटनी से अभिषेक दुबे की रिपोर्ट


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News