Katni News: हावड़ा-मुंबई सुपरफास्ट एक्सप्रेस ट्रेन में 2 यात्रियों ने की TC के साथ मारपीट, वायरल हुआ वीडियो

Manisha Kumari Pandey
Published on -
Indore To Ayodhya Train

Katni News: कटनी रेलवे स्टेशन से गुजरी हावड़ा से मुंबई जा रही एक्सप्रेस ट्रेन के स्लीपर कोच में टिकट चैकिंग के दौरान दो यात्रियों द्वारा टीसी के साथ अभद्रता और मारपीट का मामला सामने आया है। इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। वीडियो में एक यात्री टीसी से गाली-गलौज और मारपीट करते दिखाई दे रहा है। जबकि दूसरे यात्री ने एक अन्य टीसी को गले के पास से पकड़ रखा है। घटना कटनी से जबलपुर के बीच देर शाम की बताई जा रही है। मारपीट की शिकायत टीसी ने जबलपुर जीआरपी थाने में दर्ज कराई है। लेकिन घटना स्थल कटनी होने के कारण मामले की डायरी आगे की जांच के कटनी जीआरपी थाने में भेज दिया गया है।


कटनी जिले के टीसी हेड के सी रजक के मुताबिक 12 मार्च को देर शाम ट्रेन नंबर 12321 हावड़ा से मुंबई जाने वाली सुपरफास्ट एक्सप्रेस ट्रेन कटनी से जबलपुर के लिए रवाना हुई। ट्रेन में टीसी विनय कुमार यात्रियों के टिकट की जांच कर रहे थे। तभी स्लीपर कोच क्रमांक सात में टिकट चेकिंग के दौरान दो युवकों से टिकट दिखाने को कहा गया। दोनों यात्रियों के पास से जनरल कोच की टिकट थी। जिस पर टीसी ने स्लीपर कोच होने का हवाला देकर जुर्माना भरने के लिए कहा।

जुर्माना की बात पर दोनों युवक भड़क गए और टीसी से अभद्रता करते हुए मारपीट शुरू कर दी। जिसकी सूचना टीसी ने रेलवे कंट्रोल रुम को दी। टीसी ने जबलपुर पहुंच जीआरपी थाने में युवकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है। दोनों युवक जबलपुर निवासी लालजी पटैल और सुमित पटैल है। जबलपुर जीआरपी ने मामला दर्ज कर इस पूरे मामले की डायरी कटनी जीआरपी थाने पहुंचा दी है और इस पूरे मामले की जांच कर रही है। मीडियाकर्मियों कटनी जीआरपी थाने के प्रभारी पीके सिंह से मामले की जानकारी लेने पहुंचे, लेकिन वह कैमरे से भागते नजर आयें।
कटनी से अभिषेक दुबे की रिपोर्ट

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News