Katni News: जमीन खोदकर दोबारा निकाला गया नरकंकाल, पहचान अज्ञात, पुलिस ने बताई ये वजह, पढ़ें पूरी खबर

Katni News: कटनी जिले के कुठला थाना पुलिस को कैलावारा जंगल में पिछले महीने एक अज्ञात नर कंकाल मिला था। जिसकी पहचान का पता न चलने पर फिर से जमीन में उसे दफना दिया गया था। लेकिन एक महीने बाद पुलिस को दोबारा जमीन खोदकर कंकाल बाहर निकालना पड़ा। जांच के कंकाल को जिला अस्पताल भेजा गया है।

थाना प्रभारी अरविन्द जैन ने कहा

थाना प्रभारी अरविंद जैन का कहना है कि मई में वन विभाग के द्वारा उन्हें सूचना मिली थी कि, “थाना क्षेत्र के कैलवारा के जंगल में एक मानव कंकाल मिला है। जिसकी पहचान अभी भी अज्ञात है और आसपास के इलाके में पूछताछ के बाद भी कोई सुराग भी नहीं मिले थे। जिसके बाद पुलिस ने कंकाल के हड्डियों और कुछ अवशेषों को जिला अस्पताल के डॉक्टरों द्वारा निकलवा कर भोपाल की मेडिकल टीम को नर व नारी की पहचान के लिए भेजकर, उसे जमीन में गाड़ दिया गया था।”

ये है वजह

थाना प्रभारी ने बताया कि भोपाल की मेडिकल टीम को इस अज्ञात कंकाल की नर-नारी की पहचान कें लिए और भी अवशेषों की जरूरत पड़ी। इसलिए जांच पूरी करने के लिए एक महीने बाद दोबारा जमीन से मानव कंकाल को निकालने का निर्णय लिया गया। फिलहाल, भोपाल जिला अस्पताल में कंकाल को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।

कटनी से अभिषेक दुबे की रिपोर्ट


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News