Katni News : सीवर प्लांट बनाने के लिए खोदे गए गड्ढे में डूबे दो मासूम, मौत !

परिजनों और क्षेत्रवासियों ने आरोप है कि रहवासी क्षेत्र में सीवर लाइन प्लांट लगाए जाने का विरोध किया जा रहा है। बावजूद इसके जिम्मेदार अधिकारी ने विरोध को अनसुना कर दिया गया।

कटनी, अभिषेक दुबे। कटनी (Katni) में सीवर प्लांट (sewer plant) बनाने के लिए खोदे गए गड्ढे में डूबने से दो मासूमों की मौत (Death) हो गई। जिसके बाद करीब 5 घंटे चले रेस्क्यू में दोनों के शवों को गड्ढे से बाहर निकाला गया है। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और दोनों के शवों का मर्ग कायम कर उन्हें पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। इस दर्दनाक हादसे के बाद दोनों मासूमों के परिजनों सहित क्षेत्र के लोगों में काफी आक्रोश व्याप्त है। परिजनों और क्षेत्रवासियों ने आरोप है कि रहवासी क्षेत्र में सीवर लाइन प्लांट लगाए जाने का विरोध किया जा रहा है। बावजूद इसके जिम्मेदार अधिकारी ने विरोध को अनसुना कर दिया गया। ग्रामीणों का कहना है कि प्लांट का गड्ढा रहवासी क्षेत्र में नहीं खोदा जाता तो यह हादसा नहीं होता।

Read More…कुत्ते के कान की लंबाई ने बनाया World Record, देखर आप भी हो जाएंगे हैरान

पुलिस ने बताया कि कुछला बस्ती निवासी रामदास बहन की 9 साल की बच्ची रिया अशोक बैंड और दिनेश बहन का 8 साल का बच्चा कृष्णा दोनों रविवार सुबह लगभग 7 बजे घर के पीछे खेल रहे थे। कुछ देर बाद जब दोनों बच्चे परिजनों को नहीं दिखे तो उन्हें उनकी तलाश की। जब घर के पीछे बने सीवर लाइन में प्लांट के गड्ढे के पास बच्चों की चप्पल दिखी तो गड्ढे में बच्चों की तलाश क्षेत्रीय लोगों द्वारा की जाने लगी। इस बीच पुलिस को सूचना दी गई मौके पर पहुंची पुलिस ने नगर निगम को सूचना दी जिसके बाद मौके पर 500 और नगर-निगम की रेस्क्यू टीम पहुंची।

लोहे की जाल को गड्ढे में डालकर बच्चों को खोजबीन शुरू की गई। करीब 4 घंटे तक चले रेस्क्यू में दोनों शव को गड्ढे से बाहर निकाला गया। दोनों के शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। रहवासी क्षेत्र में बनाया जा रहा सिविल प्लांट हादसे के बाद क्षेत्र के लोगों ने बताया कि रहवासी क्षेत्र के पास ही सीवर लाइन का प्लांट बनाया जा रहा है। सीवर प्लांट के लिए ही वहां पर करीब 40 से 50 फीट गहरा गड्ढा खोदा गया है। रहवासी क्षेत्र होने के कारण हर समय हादसे की आशंका बनी रहती है। क्षेत्रवासियों द्वारा शुरुआत से इस सीवर लाइन प्लांट लगाए जाने का विरोध किया जा रहा है लेकिन जिम्मेदार अधिकारी विरोध को अनसुना कर रहे हैं। क्षेत्रवासियों का कहना है कि रहवासी क्षेत्र में प्लाट नहीं लगाया गया होता तो यह हादसा नहीं होता।

Read More… “आओ संवारे दतिया” कार्यक्रम में शामिल हुए गृह मंत्री, शहर को साफ-सुथरा बनाने के लिए जनता से की अपील