पुलिस ने निभाया डॉक्टर का फर्ज़, मीलों पैदल चलकर आए मज़दूरों के पैरों में लगाया मरहम

कटनी/वंदना तिवारी

कोरोना संकटकाल में ड्यूटी में जुटे पुलिसकर्मियों का मानवीय पक्ष भी लगातार सामने आ रहा है। कटनी में भी कुछ ऐसा ही दृश्य देखने को मिला जब लंबी दूरी तय कर पैदल आ गरीब मज़दूरों की पुलिस ने आगे बढ़कर मदद की। उन्होने इन मज़दूरों के चोटिल पैरों को साफ कराया और खुद मरहम लगाया, साथ ही उन्हें शासन प्रशासन द्वारा दी जा रही सुविधाओं के बारे में भी जानकारी दी।

सोमनाथ, सत्यम, विनय पटेल, रविंद्र कुमार लोधी ये सभी पान उमरिया के सूरत से भोपाल तक जंगल के रास्ते से पैदल चलकर आए फिर सोनकच्छ में खाना-पीना मिला। 3 दिन तक चना मूंगफली बिस्कुट खाकर इन्होने रास्ता तय किया और भोपाल के पास इनका मेडिकल चेकअप किया गया। फिर भोपाल पुलिस और प्रशासन की मदद से रीठी तक ट्रकों में भेजा गया और फिर जंगल के रास्ते से कटनी पहुंचने पर वहां ड्यूटी पर तैनात पुलिस टीम में शामिल उप निरीक्षक पंकज शुक्ला, प्रधान आरक्षक विजेंद तिवारी, आरक्षक नकुल पटेल और पायलेट ठाकुर द्वारा इन मजदूरों के घावों पर न सिर्फ मरहम लगाया गया, बल्कि इन्हे समझाइश भी दी गई। पुलिस ने इन्हें प्राथमिक ट्रीटमेंट दिया, डेटॉल से सफाई के बाद इनके पैरों पर खुद दवा लगाई। कोरोना के कारण कामकाज बंद जाने से ये लोग पैदल ही अपने गांव के लिये निकल पड़े थे और गुजरात से मध्य प्रदेश तक का सफर पैदल रास्ते से 3 दिन 3 रात में तय किया, लेकिन अच्छी बात रही कि जब इनका सामना यहां पुलिस से हुआ तो बजाय उनकी सख्ती के इन्हें पुलिस का एक मानवीय पक्ष दिखा।