खजराना गणेश को विश्व की सबसे बड़ी राखी बांधकर इंदौर में रक्षाबंधन के पर्व का हुआ आगाज

आज रक्षाबंधन का पर्व का आगाज भगवान गणेश (Khajrana Ganesh) को रक्षा सूत्र बांधकर किया गया। इंदौर के पालरेचा बंधुओ द्वारा विशेष रूप से तैयार की गई विश्व की सबसे बड़ी राखी आज सुबह भगवान गणेश को अर्पित कर बांधी गई।

इंदौर, आकाश धोलपुरे। मध्यप्रदेश की धार्मिक नगरी इंदौर (Indore) में रक्षाबंधन (Rakshabandhan) के पर्व का उत्साह सुबह से ही देखा जा रहा है। यहां रक्षाबंधन का पर्व का आगाज भगवान गणेश (Khajrana Ganesh) को रक्षा सूत्र बांधकर किया गया। इंदौर के पालरेचा बंधुओ द्वारा विशेष रूप से तैयार की गई विश्व की सबसे बड़ी राखी आज सुबह भगवान गणेश को अर्पित कर बांधी गई। रक्षा सूत्र बांधने के दौरान भगवान गणेश की आरती कर देश और दुनिया से कोरोना महामारी हमेशा के लिए विदा हो जाने की कामना की गई।

https://vimeo.com/590482889

ये भी देखें- MP के इन सरकारी कर्मचारियों को बड़ी सौगात, समयमान वेतनमान स्वीकृत

दरअसल, शांतु और पुंडरीक पालरेचा बन्धुओं द्वारा पिछले 18 सालों से भगवान गणेश को राखी भेंट की जाती रही है और इस वर्ष उन्होंने इस परंपरा के 19 वर्ष पूरे कर लिए हालांकि पिछले वर्ष उनके रक्षा सूत्र को गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज किया जा चुका है।

इस वर्ष 40 इंच बाय 40 इंच की भगवान श्रीकृष्ण के विराट स्वरूप के दर्शन कराती राखी तैयार की गई और राखी को बनाने में 3 माह का समय लगा जिसे 20 लोगों की मेहनत से बनाया गया है। आपको बता दें, महाराष्ट्र व गुजरात से रेशमी डोर, नगीने, सितारे एयर अष्टधातु का उपयोग राखी को तैयार करने के लिए मंगवाया गया था।

ये भी देखें- रक्षाबंधन पर सुशांत सिंह राजपूत की बहन ने शेयर किया भाई के साथ बचपन का Photo, फैंस हुए इमोश्नल

आज सुबह पालरेचा बंधुओ ने प्रथम पूज्य खजराना गणेश को राखी बांधी और इस दौरान विशेष आरती कर सभी ने बप्पा के अलौकिक स्वरूप के दर्शन किये और उनसे आशीर्वाद लिया। शांतु पालरेचा ने बताया कि वे पिछले 18 सालों से अनूठी परंपरा का निर्वहन कर रहे है वही पुंडरीक पालरेचा ने बताया कि भगवान के आशीर्वाद के बिना कुछ भी संभव नही है और उन्हें भगवान को राखी अर्पित करने में असीम शांति मिलती है।

इधर, विश्व की सबसे बड़ी राखी भगवान गणेश को बांधे जाने के बाद इंदौर में रक्षा सूत्र के पर्व का उत्साह के साथ आगाज हो चुका है और अब बहने अपने भाइयों को राखी बांधकर पर्व मनाएगी।