पुलिस की वर्दी में गवाही देने पहुंचा 3 साल का मासूम, बोला- पापा ने मम्मी को डंडे मारे, फिर लगा दी आग

3-year-old-hassan-came-to-give-testimony-in-police-uniform-murder-of-his-mother-by-father

खंडवा।

मध्यप्रदेश के खंडवा जिले में सोमवार को जिला कोर्ट में ऐसा वाक्या घटा कि सबकी निगाहें उस पर जा टिकी। यहां एक तीन साल का मासूम अपनी मां के मौत के जिम्मेदारी पिता के खिलाफ कोर्ट में गवाही देने पहुंचा। खास बात ये रही कि बच्चा कोर्ट पुलिस की वर्दी पहनकर पहुंचा और उसने पिता के साथ-साथ दादा-दादी, चाचा और बुआ के खिलाफ भी बयान दिए। इस दौरान कोर्ट में बच्चे के इस साहस देख पूरे दिन चर्चाएं होती रही।बताते दे कि बीते साल सादिया हत्याकांड काफी सुर्खियाों में रहा था।

दरअसल, 4 अप्रैल 2018 को रात करीब दो बजे सादिया पति मोइनुद्दीन तिगाला (23) का शव बाथरूम में मिला था। पूरी तरह से जलने से उसकी मौके पर ही मौत हो गई थी। सूचना पर कोतवाली पुलिस ने पहुंचकर कमरा सील कर दिया था। यहां सादिया के परिवार के लोगों ने जमकर हंगामा किया था।उन्होंने पति सहित अन्य लोगों पर हत्या का आरोप लगाया था। नवविवाहिता की मौत का मामला होने से तीन डॉक्टरों की पैनल ने शव का पोस्टमार्टम किया। इसके बाद 27 अप्रैल को कोतवाली में सादिया के पति मोइनुद्दीन तिगाला, ससुर सलामुद्दीन, सास खातून बी, जेठ इरशाद और ननद मुन्नी बाई पर हत्या का केस दर्ज हुआ था। इसी को लेकर सोमवार को कोर्ट में पेशी थी और तीन साल का बेटा अपनी मां सादिया की हत्या का मुख्य गवाह बनकर कोर्ट में वह अपने नाना, मामा और अन्य परिजन के साथ पहुंचा। दूसरी तरफ से आरोपित पिता प्याज और ट्रांसपोर्ट व्यवसायी मोइनुद्दीन तिगाला, अपने माता-पिता, चाचा और बुआ के साथ कोर्ट पहुंचे थे।

यहां चतुर्थ अपर सत्र न्यायाधीश में बेटे को पेश किया गया। बेटे के न्यायाधीश के समक्ष जाते ही परिवार के लोगों को बाहर कर दिया गया। कोर्ट में दोनों पक्षों के अधिवक्ता मौजूद रहे। इसके बाद बेटे की गवाही एक बंद कमरे में हुई। यहां केवल न्यायाधीश ही उसके साथ मौजूद रहे।बेटे ने उसने पिता के साथ-साथ दादा-दादी, चाचा और बुआ के खिलाफ बयान दर्ज करवाए।कोर्ट के एक कक्ष में इस बच्चे से 25 सवाल किए गए। जवाब में उसने बताया कि पापा ने मम्मी को डंडे मारे, घसीटकर ऊपर ले गए, पानी डालकर आग लगा दी। शहर के बहुचर्चित सादिया बी (25) हत्याकांड में कुल 17 गवाह है। सादिया का चार साल का बेटा एकमात्र चश्मदीद और 11वें गवाह के रूप में सोमवार को कोर्ट पहुंचा था। कोर्ट के एक कक्ष में बच्चे के करीब एक घंटे तक बयान हुए।

डर ना लगे इसलिए पहनी पुलिस की वर्दी

खास बात यह रही कि बच्चा पेशी पर साधारण कपड़े ना पहनकर पुलिस की वर्दी पहनकर पहुंचा। इसके पीछे वजह यह थी कि वह पहली पेशी मे परिवार के लोगों से डर गया था और उनके सामने आने से भी भाग रहा था। इस डर को दूर करने उसे पुलिस की वर्दी पहनाई गई। पेश पर पहुंचे बेटे ने अपने नाना से कहा जो भी बोलूंगा पुलिस को बोलूंगा, मेरी मम्मी को किसने मारा। तुम कुछ नहीं करते मुझे तलवार दे दो, मोइन (पिता) को मार दूंगा। मोइन ने मम्मी को सिर पर डंडा मारा, घसीटकर ऊपर ले गया और पानी डालकर आग लगा दी।