खंडवा, सुशील विधानी। मप्र (MP) सरकार द्वारा खंडवा (Khandwa) नगर को दूध डेयरी के रूप में नवीन दुग्ध संयंत्र की सौगात मिली है। जिससे खंडवा में दूध की क्षमता 10 हजार लीटर से 40 हजार लीटर प्रतिदिन हो जाएगी। खंडवा के आसपास के साथ ही संभवत: खंडवा से सांची का यह दूध बरहानपुर के साथ ही महाराष्ट्र के भुसावल व जलगांव तक पहुंचाया जाएगा। जिससे दूध डेयरी की आय में इजाफा होगा।

यह भी पढ़ें… जबलपुर पहुंचे नरोत्तम मिश्रा, भाजपा नेताओं और पुलिस अधिकारियों से मुलाकात कर जिले का जाना हाल

समाजसेवी व प्रवक्ता सुनील जैन ने बताया कि खंडवा में शुक्रवार को पशुपालन डेयरी, सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण मंत्री प्रेम सिंह पटेल ने 4 करोड़ 61 लाख रूपये लागत से बनाए गए नवीन दुग्ध संयंत्र का लोकार्पण किया। इस संयंत्र से 40 हजार लीटर दूध पेकिंग होगा। संयंत्र से 68 संस्थाएं पंजीकृत है तथा 28 का और पंजीयन होना है। इसके 38 हजार सदस्य है। इसमें 1531 महिलाओं की भागीदारी है। यहां पर आने वाले दूध की जांच मशीनों द्वारा त्वरित गति से की जाएगी। इस संयंत्र से आसपास तथा महाराष्ट्र के लगभग 8 से 10 शहरों को दूध पैकेट भेजने की प्लानिंग है।

मंत्री पटेल ने बताया कि नवीन दुग्ध संयंत्र द्वारा 26 प्रकार के डेरी उत्पादन किया जाएगा। जिस प्रकार अमूल का नाम देश ही नहीं पूरे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर छाया हुआ है। उसी के अनुरूप सांची के दूध को भी हम लगातार उत्पादन में आगे बढ़ा रहे हैं। इंदौर के साथ ही बड़वानी एवं खंडवा में भी नवीन दुग्ध संघ का निर्माण हो जाने से किसानों को भी राहत मिलेगी। कार्यक्रम के पूर्व में मां सरस्वती के चित्र के समक्ष द्वीप प्रज्जवलित कर माल्यार्पण किया गया तथा गौ-पूजन भी किया गया। कार्यक्रम में मंत्री प्रेमसिंह पटेल के साथ मांधाता विधायक नारायण पटेल, जिलाध्यक्ष सेवादास पटेल, दुग्ध संघ इंदौर के अध्यक्ष मोतीसिंह पटेल, प्रवक्ता सुनील जैन, पूर्व अध्यक्ष उमरावसिंह पटेल, हरीश कोटवाले सहित कई पदाधिकारी व अधिकारीगण उपस्थित थे।

पशुपालन मंत्री प्रेम सिंह पटेल ने 4 करोड़ 61 लाख रूपये की लागत के नवीन दुग्ध संयंत्र का किया लोकार्पण