चप्पल दिलाने के बहाने छात्रा के अपहरण की कोशिश, संदिग्ध कैमरे में कैद, तलाशी जारी

खंडवा।सुशील विधानी।

बस स्टैंड से गुरुवार सुबह दस वर्षीय बालिका के अपहरण का मामला सामने आया है। बालिका मां और भाई के साथ स्टैंड पर थी। तभी एक पुरुष व महिला आई और चप्पल दिलाने का झांसा देकर साथ ले गए। जब बेटी काफी देर तक नहीं लौटी तो मां कोतवाली थाने पहुंची और मामले की जानकारी पुलिस को दी। 

जानकारी के अनुसार साक्षी पिता वि_ल (10) निवासी वाशिम (महाराष्ट्र) गुरुवार सुबह करीब 8 बजे खंडवा बस स्टैंड पर मां पुष्पाबाई और भाई के साथ पहुंची। तभी परिचित एक महिला और पुरुष वहां पहुंचे। उन्होंने साक्षी को बगैर चप्पल के देखा तो बोले बेटी को चप्पल पहनाकर लाते हैं और साक्षी को साथ लेकर चले गए। करीब एक घंटे तक वह नहीं लौटे तो मां पुष्पाबाई ने आसपास तलाश की। लेकिन बेटी का कहीं कोई पता नहीं चला। संदेह होने पर मां कोतवाली थाने पहुंची और घटनाक्रम की जानकारी पुलिस को दी। मामला सामने आते ही पुलिस ने सीसीटीवी कैमरों के फुटेज खंगाले। इसमें बालिका को ले जाते हुए महिला व पुरुष कैद हुए हैं। फुटेज के आधार पर पुलिस संदिग्धों की तलाश कर रही है।

मराठी भाषा में उलझी पुलिस, जानकार को बुलाया

बेटी के अपहरण के बाद मां पुष्पाबाई थाने पहुंची और पुलिस को मराठी भाषा में रोते हुए अपनी कहानी बताने लगी। लेकिन थाने में मौजूद पुलिसकर्मी मराठी भाषा के जानकार नहीं थे। इसलिए वह उसकी बात नहीं समझ पा रहे थे। ऐसे में मराठी जानकार पुलिसकर्मी को थाने बुलाया गया। इसके बाद पुष्पाबाई की कहानी सामने आई। पुष्पा ने बेटी का अपहरण करने वालों के नाम रेखाबाई और सिकंदर बताया है।

दो दिन आरोपी के घर रूकी थी महिला

पुलिस की पूछताछ में पुष्पाबाई ने बताया पति से विवाद के चलते वह घर छोड़कर आ गई थी। पिछले कुछ महीनों से पुणे में रह रही थी। इसी दौरान आरोपी रेखाबाई व सिकंदर के संपर्क में आई। दोनों से पहचान और भरोसा होने के बाद वह अपने बच्चों के साथ नीमच पहुंची। दो दिन तक आरोपियों के घर रूकी। गुरुवार सुबह पुष्पा घर जा रही थी। तभी आरोपी बस स्टैंड से उसकी बेटी का अपहरण कर ले गए।

स्कूल जा रही बालिका के अपहरण की कोशिश

स्कूल जा रही बालिका के अपहरण की कोशिश की गई। मामले में परिजन ने मोघट थाने पहुंचकर शिकायत की है। परिजन ने पुलिस को बताया गुरुवार सुबह 11 बजे अलीना पिता साजिद खान (7) निवासी कसाईपुरा हिंदी स्कूल खड़कपुरा जा रही थी। तभी रास्ते में दो पुरुष और एक महिला मिली। उन्होंने बालिका को रोका और कुछ पिला दिया। इसी दौरान बालिका उक्त लोगों से हाथ छुड़ाकर घर भाग गई। मामला देख आसपास खड़े लोगों ने उक्त लोगों का पीछा किया लेकिन वह भाग निकले। मामला सामने आते ही परिजन ने बालिका के साथ मोघट थाने पहुंचकर शिकायत की। शिकायत पर पुलिस ने मामला जांच में लिया है।

इनका कहना

बस स्टैंड से दस वर्षीय बालिका को ले जाने की शिकायत मिली है। उसकी मां की शिकायत पर दो लोगों के खिलाफ अपहरण का प्रकरण दर्ज किया है। सीसीटीवी फुटेज के आधार पर संदिग्धों की तलाश की जा रही है।

बीएल मंडलोई, टीआई, कोतवाली