दुकानों के सामने कार पार्किंग बन रही विवाद का कारण

खण्डवा| सुशील विधानी| विश्व प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग नगरी ओंकारेश्वर में तीर्थयात्रीयों की सुख सुविधा के इंतजामात जूटाने में केन्द्र एवं प्रदेश सरकार गंभीर नजर आ रही हैं ओंकारेश्वर आने वाले तीर्थयात्रीयों की सहुलियत को देखते हुए नित नये प्लान तैयार किये जा रहे हैं करोड़ों रुपये स्विकृत कर प्लान धरातल पर भी ऊतारा जा रहा हैं जिला प्रशासन समय-समय पर मानिटरिंग भी कर रहा हैं यह सब भुतभावन भगवान् ओंकारेश्वर महाराज के दर्शन एवं नर्मदा स्नान करने आने वाले लाखों श्रद्धालुओं की सुविधा को दृष्टिगत रखते हुए किया जा रहा हैं।प्रसादम योजना के अंतर्गत विष्णु मंदिर से ममलेश्वर मंदिर को जोडते हुए ब्रम्हेश्वर मंदिर तक आकाशीय ब्रिज निर्माणाधिन हैं। श्रद्धालुओं कै पुल (ब्रिज) पर धूप से बचने के लिये टीन शैड का निर्माण भी किया गया जिसके तहत ओंकारेश्वर नया झुला पुल पार्किंग से लेकर ब्रम्हेश्वर महादेव मंदिर तक मजबूत टीन शैड का निर्माण श्रद्धालुओं की सुविधा के लिये बनाया गया हैं।विडंबना कहे या अफसरशाही श्रद्धालुओं की सुख सुविधा को अनदेखा करते हुए स्थानिय एक बडी कंपनी सहित सरकारी कर्मचारी अधिकारीयों के निजी वाहनों के पार्किंग का स्थल बनाकर उपयोग किया जा रहा हैं उक्त वाहनों के खडे होने से  पैदल तीर्थयात्रीयों को आवागमन में परेशानी का सबब बन गया हैं। अव्यवस्था का आलम यह हैं की पर्वकाल एवं स्कूली अवकाश के समय भीड़-भाड़ के दौरान प्रतिबंधित पैदल मार्ग पर सरकारी और निजी वाहनों की आवाजाही के कारण कभी भी गंभीर दुर्घटना घटित होने की संभावना से भी इंकार नही किया जा सकता है।अनेको बार छोटे छोटे बच्चे इस मार्ग पर चहलकदमी के दौरान तेज गति से आने वाले वाहनों की चपेट में आते आते बाल-बाल बचे है।3करोड़ की लागत से पैदल तीर्थ यात्रियों को धुप वर्षा से निजात दिलाने के उद्देश्य से बनाया गया  टीन शेड वाहनो की आवाजाही के चलते श्रद्धालुओं का सुरक्षित पैदल चलना भी मुश्किल हो गया है।

क्या कहते है जिम्मेदार – एसडीम पुनासा ममता खेडे द्वारा बताया गया पार्किंग की सुविधाएं  नगर निगम के अंतर्गत में आती हैं जिसके लिए हमने सीएमओ पुनासा को सूचित किया है जल्दी इसका निराकरण किया जाएगा