जल समस्या को लेकर पद्मश्री महेश शर्मा से मिले विधायक

सुशील विधानी/खंडवा। लंबे समय से पेड़ों की अवैध कटाई और अवैध उत्खनन के कारण पंधाना क्षेत्र का जल स्तर लगातार गिर रहा है। जिस कारण प्रकृति और पर्यावरण को बहुत नुकसान हो रहा है। साथ ही किसानों को सिंचाई के लिए पानी भी नहीं मिल पा रहा है। लेकर पंधाना विधायक राम दांगोरे पद्मश्री पुरस्कार प्राप्त महेश शर्मा जी से मिले और इस समस्या पर चर्चा की।

यहां के किसान खेती के लिए उपयोग में लाए जाने वाले पानी हेतु तालाब, नहर,नदी, कुएं और ट्यूबवेल पर निर्भर है। पंधाना विधायक राम दांगोरे ने बताया कि 8 से 10 वर्ष पूर्व पंधाना क्षेत्र में 200 फीट की गहराई पर ट्यूबवेल से पानी निकल आता था और 50 फीट की गहराई पर कुएं में पानी निकल आता था। लेकिन आज अत्यंत चिंता का विषय है की 1000 फीट खोदने पर भी ट्यूबेल से पानी नहीं आ पा रहा है। साथ ही कुएं को भी 100 100 फीट से अधिक खोदना पड़ रहा है। यह पंधाना क्षेत्र के लिए अत्यंत चिंता का विषय है, क्योंकि गर्मी के मौसम में नदियों में पानी सूख जाता है और तालाबों का पानी भी उड़ जाता है। गर्मी के मौसम में फसलों को पानी तो मिल नहीं रहा साथ ही पीने के पानी के लिए भी खूब मशक्कत करनी पड़ती है। क्षेत्र में पिछले 10 वर्षों में लाखों की संख्या में पेड़ों को काटा गया है और लगभग 300 से ज्यादा स्थानों पर अवैध उत्खनन हुआ है। जिसके कारण पंधाना क्षेत्र का पर्यावरण और प्रकृति दोनों को नुकसान हो रहा है। साथ ही जमीन का जलस्तर भी गिर गया है। जल संरक्षण को लेकर लंबे समय से काम कर रहे पद्मश्री पुरस्कार प्राप्त श्री महेश शर्मा जी से झाबुआ में हुई इस मुलाकात में विधायक ने उन्हेंं अपने क्षेत्र की समस्या अवगत कराया ताकि जन समुदाय के माध्यम से पंधाना के गिरते जलस्तर से उभरा जा सके। मुलाकात के दौरान युवा संसद के संयोजक श्री विशाल सिंह चौहान, भील समाज युवा मोर्चा के जिला अध्यक्ष रविंद्र अस्कले, टंट्या भील अध्ययन केंद्र के संचालक लोकेश मोरे उपस्थित रहे। आपको बता दें कि झाबुआ में श्री महेश शर्मा जी के नेतृत्व में जल संरक्षण हेतु लगभग50,000 साथियों के साथ अभियान चलाया जा रहा है।