आग से 15 घर जलकर खाक, चार जानवर भी झुलसे, राहत कार्य में जुटा प्रशासन

Fire-burns-15-houses

खन्डवा | सुशील विधानी| खालवा ब्लाक के तहत आने वाले आवलिया नागोतर गांव में उस समय खलबली मच गई,जब एक घर में आग लगने पर देखते ही देखते 15 घर आग के चलते राख के ढेर में तब्दील हो गए। ग्रामीणों से मिली जानकारी के अनुसार पहले एक घर में आग लगी,उसके पश्चात देखते ही देखते आग ने 15 घरों को अपनी चपेट में ले लिया । 15 घरों के अंदर रखा सामान सहित घर तबाह हो गए। ग्रामीणों द्वारा फायर फाइटर को सूचना दी गई लेकिन फायर फाइटर खालवा ब्लाक मे दो आंवलिया गांव होने के चलते असमंजस के चलते दूसरे गांव पहुंच गई। इस दौरान ग्रामीणों ने आसपास मौजूद पानी के साधनों से आग को बुझाने की कोशिश की लेकिन असफल हो गए। 15 घर आग के चलते राख के ढेर में तब्दील हो गए । 15 घरों में रखा सामान जिसमें घरेलू उपयोग में आने वाले सामान के अलावा कुछ घरों में अनाज की फसल सहित चांदी के आभूषण भी जलकर खाक हो गए।

खालवा प्रशासन सहित जिला प्रशासन की टीम को जानकारी लगते ही टीम मौके पर पहुंची मामले की गंभीरता को देखते हुए खंडवा कलेक्टर विशेष गढ़पाले एवं पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ बहुगुणा सहित खालवा की टीम मौके पर पहुंची एवं 15 घरों के नुकसान का आंकलन कर उन्हें आर्थिक मदद देने की बात कही जा रही है। वहीं जिनके घर जलकर तबाह हो गए उन सभी का रो-रो कर बुरा हाल है। गांव में रहने वाले अन्य लोग उन्हें ढांढस बंधा रहे हैं एवं मदद करने की बात कह रहे हैं । इसके अलावा खंडवा की सामाजिक संस्थाओं को मामले की जानकारी लगने के पश्चात संस्थाएं भी मदद के लिए आगे आ सकती हैं एवं जिन घरों का नुकसान हुआ है,उन्हें आर्थिक मदद कर सकती हैं । खबर लिखे जाने तक जिला प्रशासन की टीम मौके पर मौजूद है ।

कलेक्टर ने अग्नि दुर्घटना प्रभावित ग्राम का दौरा किया

खालवा विकास खण्ड के ग्राम आवल्या नगोत्तर में अग्नि दुर्घटना में 3 पशु घायल हुए तथा 15 घर जल गए। कलेक्टर  विशेष गढ़पाले ने पुलिस अधीक्षक  सिद्धार्थ बहुगुणा के साथ वहां का दौरा कर राहत कार्यों की समीक्षा की। पशु चिकित्सको ने घायल पशुओं का उपचार किया। डॉक्टर्स को वहीं रात्रि विश्राम करने के निर्देश दिए हैं। पीड़ित परिवारों के बिस्तर, रुकने के लिए टेंट आदि की व्यवस्था कर दी गयी है। खाद्यान्न व केरोसिन भी परिवारों को निशुल्क उपलब्ध कराया गया है। RBC के तहत राहत प्रकरण तैयार किये जा रहे हैं। आदिवासी विकास विभाग से प्रति परिवार 15 हजार रुपये की आर्थिक मदद भी उपलब्ध कराई गई है।कलेक्टर ने बताया कि पीड़ित परिवारो को 50 किलो गेंहू, 10 किलो चावल और 5 लीटर केरोसिन उपलब्ध कराया गया है। स्वसहायता समूहों के माध्यम से पीड़ित परिवारों की भोजन व्यवस्था की गई है। राजस्व पुस्तक परिपत्र के तहत सहायता आज ही स्वीकृत कराकर मदद दिलाई जाएगी।

जिन आदिवासियों के मकान जले हैं ,उनके नाम इस प्रकार है.. 

मोतीराम फालतू ,छज्जू लाल फालतू,सीताराम फालतू मोहन सिंह नंदराम,बाटू मानू,कोबई बाई बाबु,राजेश बूढ़ा,राजकुमार बाबूलाल,श्यामलाल राजा राम, कृष्णा चुनिया,प्रभु चुनिया,राजेंद्र रामु,मंगल रामु,राजू बाबूलाल, कोरकु एवं गोंड जाति के हैं