निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में मैदान में हो सकतीं हैं जयश्री ठाकुर, कांग्रेस-बीजेपी को देंगी टक्कर

jay-shree-may-field-nomination-independent-from-khandwa

खंडवा। सुशील विधानी। 

खंडवा संसदीय सीट से 1952 में कांग्रेस के बाबूलाल तिवारी दो बार सांसद चुने गए। इसके बाद महेश मिश्रा और दो बार गंगाचरण दीक्षित चुने गए। यानी कुल 16 चुनाव हुए है। जिनमें तिवारी-दीक्षित दो बार और सबसे अधिक 5 बार सांसद बनने का श्रेय नंदकुमारसिंह चौहान को जाता है। वे निमाड की राजनीति में सबसे अधिक लोकप्रिय नेता के रूप में उभरकर सामने आए है। खंडवा लोकसभा के 16 चुनाव में कांग्रेस से 9 बार सांसद चुने गए। वहीं बीजेपी से 6 बार तो एक बार भारतीय लोक दल से परमानंद गोविंदजीवाला चुने गए। लोकसभा सीट पर बुरहानपुर ने 11 सांसद दिए हैं जबकि खंडवा ने 4 और खरगोन ने 1 सांसद। अकेले सांसद नंदकुमार सिंह चौहान ही 5 बार सांसद चुने गए है। सातवीं बार भी उनकी दावेदारी नया रिकार्ड बना सकती है। यानी कह सकते हैं कि बुरहानपुर में आजादी के बाद से ही कद्दावर नेता बडी संख्या में उभरे हैं। लेकिन संसदीय क्षेत्र के संपूर्ण विकास के साथ पिछड़े जिले व गांवों के विकास की बात करें तो जनता यही कह रही है कि विकास तो हुआ है लेकिन क्षेत्र का संपूर्ण विकास नहीं हुआ है। ना निर्मल गांव हुए और ना आदर्श ग्राम बना। भाजपा और कांग्रेस ने सिर्फ जमकर सत्ता की मलाई खाई है।

लोकसभा चुनाव में भी निर्दलीय उम्मीदवार…..

लोकसभा सीट पर भाजपा ने पत्ते खोल दिए हैं। लेकिन कांग्रेस में खींचतान का दौर जारी है। क्योंकि बुरहानपुर से निर्दलीय विधायक ठाकुर सुरेंद्रसिंह ने आलाकमान के सामने पत्नी जयश्री ठाकुर को टिकट देने की जिद पकड रखी है। ऐसे में कांग्रेस टिकट को लेकर पशोपेश में है। खैर देखना होगा कि दिल्ली कौन पहुंचेगा इस बार। फिलहाल नंदकुमारसिंह चौहान मैदान है तो कांग्रेस से अरूण यादव या जयश्री मैदान में होगी। कयास लगाये जा रहे है कि टिकिट नहीं मिलने पर जयश्री ठाकुर निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में भी मैदान उतर सकती है। बीए एमए तक पढ़ाई कर चुकी जयश्री विभिन्न राजनैतिक पदों के साथ सक्रिय राजनीति ओर सामाजिक कार्यों में भी बढचढ़कर हिस्सा लेती रही है। महिला नेत्री के रूप में भी उनकी मजबूत पकड़ क्षेत्र में है।

ये रहे अब तक सांसद…

1952 बाबूलाल तिवारी कांग्रेस खंडवा

1957 बाबूलाल तिवारी कांग्रेस खंडवा

1962 महेश मिश्रा कांग्रेस खंडवा

1967 गंगाचरण दीक्षित कांग्रेस बुरहानपुर

1971 गंगाचरण दीक्षित कांग्रेस बुरहानपुर

1977 परमानंद गोविंदजीवाला भारतीय लोक दल बुरहानपुर

1980 ठाकुर शिवकुमारसिंह कांग्रेस बुरहानपुर

1984 कालीचरण सकरगाए कांग्रेस खंडवा

1989 अमृतलाल तारवाला भाजपा बुरहानपुर

1991 ठाकुर महेंद्रसिंह कांग्रेस बुरहानपुर

1996 नंदकुमारसिंह चौहान भाजपा बुरहानपुर

1998 नंदकुमारसिंह चौहान भाजपा बुरहानपुर

1999 नंदकुमारसिंह चौहान भाजपा बुरहानपुर

2004 नंदकुमारसिंह चौहान भाजपा बुरहानपुर

2009 अरूण यादव कांग्रेस खरगोन

2014 नंदकुमारसिंह चौहान भाजपा बुरहानपुर