Khandwa News : गरीब परिवारों का राशन खा गया माफिया, आजम, पत्नी समेत 4 पर मामला दर्ज

बाकी 332 क्विंटल गेहूं कहां गया, इसका अभी पता नहीं चल पाया है। इस मामले में छैगांवमाखन पुलिस ने पंकज जायसवाल, भाटी ट्रांसपोर्ट कंपनी की प्रोपराइटर नरगिस बी, उसके पति आजम पिता हाजी कसम चौहान निवासी को गिरफ्तार किया है।

Khandwa News : मध्य प्रदेश के खंडवा जिले से एक बड़ी खबर आ रही है। जहाँ भाटी ट्रांसपोर्ट कंपनी की प्रोपराइटर नरगिस बी, उसके पति आजम पिता हाजी कसम चौहान ने 350 क्विंटल गेहूं गायब किया। गरीबों का राशन ठेकेदार ट्रांसपोर्ट द्वारा गायब कर बेचा जाता है। कई बार ब्लैक लिस्टेड हो चुके राशन माफिया आजम चौहान ने नया राशन घोटाला किया है। उसने भाटी ट्रांसपोर्ट कंपनी के जरिए खरगोन भेजे गए गेहूं में हेराफेरी की और रास्ते में ही 350 क्विंटल गेहूं बेच दिया।

क्या है पूरा मामला

दरअसल, जब आजम ब्लैक लिस्टेड हुआ तो उसने अपनी पत्नी नरगिस के नाम पर ट्रांसपोर्ट का ठेका कैसे ले लिया था। गांव में एक गोदाम संचालक के घर सरकारी राशन मिला तो इसके तार आजम से जुड़े मिले। पुलिस ने आजम, उसकी पत्नी समेत 4 लोगों को आरोपी बनाया है। मामला कुछ यूं है कि भाटी ट्रांसपोर्ट कंपनी द्वारा की गई गेहूं हेराफेरी के मामले में पंकज पिता प्रकाशचंद जायसवाल के देशगांव स्थित गोदाम से 8 क्विंटल सरकारी गेहूं जब्त किया गया है। बाकी 332 क्विंटल गेहूं कहां गया, इसका अभी पता नहीं चल पाया है। इस मामले में छैगांवमाखन पुलिस ने पंकज जायसवाल, भाटी ट्रांसपोर्ट कंपनी की प्रोपराइटर नरगिस बी, उसके पति आजम पिता हाजी कसम चौहान निवासी को गिरफ्तार किया है।

छोटी नदी, गंज बाजार निवासी प्रतिनिधि इरफान शेख पिता शेख रफीक के खिलाफ आवश्यक वस्तु अधिनियम 1955 की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है। कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी रोहित देवल ने बताया कि गेहूं की कालाबाजारी की जांच की जा रही थी। इसी बीच पता चला कि पंकज के गोदाम में सरकारी अनाज उतरा है। संयुक्त निदेशक अंशु जावला के नेतृत्व में टीमें 26 व 27 मई को लगातार दो दिन पंकज के गोदाम पर जांच करने पहुंची। लेकिन 27 मई की शाम तक पंकज गायब था। हालांकि दबाव के बाद पंकज सामने आया। गोदाम खुलवाकर जांच की गई तो वहां सरकार द्वारा भेजा गया 8 बोरी (8 क्विंटल) गेहूं मिला। बोरियों पर लगे टैग, धागा व सिलाई के तरीके को देखकर बोरियों की पहचान की गई। जिन्हें जब्त कर लिया गया।

यहां नागरिक आपूर्ति निगम, खाद्य एवं आपूर्ति विभाग और राजस्व विभाग के अधिकारी भी माफिया आजम चौहान से मिले हुए हैं। आजम के परिवहन ठेकों में कई अफसरों की भागीदारी है। सालों से सरकारी अनाज का गबन करने वाले आजम ने करोड़ों की बेनामी संपत्ति अर्जित कर ली है। खंडवा का प्रशासन कोई बड़ी कार्रवाई नहीं कर पाया है। पूर्व में आजम के भाई असलम चौहान पर एनएसए की कार्रवाई हो चुकी है। असलम के गुलमोहर स्थित मकान की नापजोख भी की गई। लेकिन बुलडोजर नहीं पहुंच सका।

खंडवा से सुशील विधाणी की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News