10 लाख निराश्रित गौवंश को संधारण और संवर्धन करना मुख्य लक्ष्य: लखन सिंह यादव

खंडवा (सुशील विधानी।)। मध्य प्रदेश में सडक़ों पर घूमने वाले मवेशियों से परेशान सरकार अब जल्द ही ऐसा प्रस्ताव ला रही है, जिसके तहत सूबे में अब कोई भी गाय को गोद ले सकेगा। पशुपालन मंत्रालय ने ये प्रस्ताव तैयार किया है। दरअसल, कमलनाथ सरकार ने प्रोजेक्ट गोशाला के तहत पहले चरण में 1,000 गौशाला दिसंबर में पूर्ण हो जाएगा, जिसमें कुछ गौशालाओं का लोकार्पण भी हो चुका है।

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने गौ माता की संरक्षण के लिए अनेकों गौशालाओं का निर्माण किया जा रहा है। 3000 अन्य गौशालाओं का निर्माण आगे का लक्ष्य लेकर किया जा रहा है और 10 लाख निराश्रित गायों को संधारण और संवर्धन करके इसको पूर्ण किया जा रहा है। जिसमें सडक़ों पर घूमने वाले लावारिस मवेशियों को रखा जाएगा। यह बातें पशुपालन मंत्री लाखन सिंह यादव ने सोमवार को खंडवा पहुंचने पर सर्किट हाउस में चर्चा के दौरान कहीं। वहीं उन्होंने कहा कि ओमकारेश्वर डेम और इंदिरा सागर डैम के जितने भी मछुआरे हैं, उनको उनका हक मिलेगा। इसी को लेकर आज इंदिरा सागर डैम में बैठक लेने आया हूं। मछुआरों के लिए, उनके परिवार के लिए, उनके बेटे बेटियों के लिए अच्छे से अच्छा जो हो सकता है, वह किया जाएगा। क्योंकि कमलनाथ सरकार गरीबों की सरकार है। हरसूद क्षेत्र में जो बचे हुए वंचित लोग हैं, उनको भी मुख्यधारा से जुड़ेंगे, उनको भी रोजगार देंगे। कमलनाथ सरकार का वचन ही हर बेरोजगार के हाथ में रोजगार देना और सोसाइटी के माध्यम से मछुआरों के जीवन को अच्छे से अच्छा करना यही हमारा लक्ष्य होगा।

प्रदेश की जनता से किए गौशाला निर्माण के वचन को मुख्यमंत्री कमलनाथ के नेतृत्व में प्रदेश सरकार पूरा करने के लिए जो काम शुरू किया था, अब वह पूरा होता हुआ नजर आ रहा है। गौशालाओं का निर्माण हो चुका है। उन्होंने कहा कि हमारा प्रयास है कि जो गाय दूध नहीं दे रही हैं, उनके गोबर और गोमूत्र के औषधीय गुणों को दृष्टिगत रखते हुए खाद, गोबर गैस सहित अन्य उत्पादों के निर्माण को बढ़ावा दिया जाए। जिससे लोगों में भी गौसंरक्षण के प्रति जागरूकता पैदा हो और अधिक से अधिक गायों की देखभाल की जा सके। हरसूद क्षेत्र के वरिष्ठ कांग्रेस नेता अशोक पटेल मंत्री से चर्चा के दौरान कहा कि 25000 आबादी वाले हरसूद शहर व सैकड़ों ग्रामीण क्षेत्रों ने इंदिरा सागर डैम बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। हरसूद क्षेत्र के बेरोजगार युवकों के लिए रोजगार देने के लिए विशाखापट्टनम की तर्ज पर हरसूद क्षेत्र में भी फिश फैक्टरी लगाई जानी चाहिए। कोल्ड स्टोर फैक्ट्री जिसके माध्यम से हरसूद क्षेत्र के बेरोजगार युवकों को रोजगार मिले, यह बात मंत्री के सामने रखी। हरसूद में बेरोजगार युवकों को लिए अच्छा रोजगार हो, इसके लिए मुख्यमंत्री कमलनाथ से भी चर्चा की थी। हरसूद क्षेत्र में ट्रांसपोर्ट व्यवस्था  रेल यातायात व्यवस्था अच्छी हो इस पर भी चर्चा की गई। यशवंत सिलावट युवा नेता कांग्रेस के उन्होंने भी मंत्री यादव से चर्चा की। सिलावट ने बताया कि हमारे द्वारा गायों को बेसहारा छोड़ दिया जाता है। ऐसी गायों को गौशाला में लाकर उनकी देखरेख करना, इसकी शुरुआत हमारे द्वारा की गई हैं। इस पर मंत्री ने कहा कि सेवा करना बड़े ही पुण्य का कार्य है। उन्होंने कहा कि इस गौशाला के संचालकों द्वारा गायों की निस्वार्थ सेवा की जा रही है, जो कि निश्चित ही अनुकरणीय है। पशुपालन मंत्री मछुआ कल्याण तथा मत्स्य विकास विभाग मंत्री लाखन सिंह यादव 9 दिसम्बर को खण्डवा आए। सुबह पहुंचे यादव से मिलने मांधाता विधायक नारायण पटेल, ग्रामीण अध्यक्ष ओंकार पटेल, शहर अध्यक्ष इंदल सिंह पवार, वरिष्ठ कांग्रेस नेता मनोहर समनानी, सदाशिव बावरिया, श्याम यादव, कांग्रेस के नेता उपस्थित थे। मंत्री आज  इंदिरा सागर डेम के लिए सुबह रवाना हुए तथा इंदिरा सागर डेम पर विभागीय अधिकारियों की बैठक लेकर मत्स्य पालन की गतिविधियों का निरीक्षण करेंगे।