खंडवा, सुशील विधाणी। करोना महामारी के चलते 4 माह से मांगलिक आयोजन नहीं होने के कारण मांगलिक आयोजन से जुड़े सभी लोगों को काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है । मांगलिक परिसर टेंट व्यवसाय, लाइट व्यवसाय, कैटरीन हलवाई फोटोग्राफर सहित इससे जुड़े अन्य लोगों को बड़ा नुकसान उठाना पड़ रहा है। हमारी राज्य शासन से यही अनुमति चाहिए कि सभी मांगलिक परिसरों को शुरू करने की अनुमति दी जाए ,जिससे हमारा व्यापार व्यवसाय फिर से शुरू हो जाए। इसी को लेकर आज कलेक्टर कार्यालय में ज्ञापन दिया गया।

ज्ञापन में लिखा गया कि कोरोना महामारी के खिलाफ देशहित में सही समय पर उठाये गये ऐतिहासिक कदम पर मांगलिक आयोजनकर्ता सदस्य इस महामारी की समस्या से केन्द्र व राज्य सरकार के निर्देशानुसार नियमों का पालन करते हुये लड़ने के लिये आज भी आपके साथ हैं । भारतीय व्यवस्था को सुचारु करने के लिये प्रत्येक वर्ग का ध्यान रखते हुऐ आपके द्वारा सराहनीय कार्य किये जा रहें। उसी कड़ी में मांगलिक आयोजनों एवं उससे जुड़े बन्धुओं की निम्न समस्याओं के निराकरण हेतु संबंधित मंत्री – जनप्रतिनिधि – अधिकारी को आदेश देकर कृतार्थ करें। अप्रैल से मई माह तक शादियों व अन्य मांगलिक कार्यों का सीजन होता हैं, कोरोना महामारी के चलते लॉकडाउन के कारण पूरा सीजन खराब हो गया हैं ।

वर्तमान में मांगलिक आयोजनों पर प्रशासनिक बंदिशों के कारण मांगलिक आयोजनकर्ता व उससे जुड़े बन्धुओं को भारी नुकसान व परेशानीयों का सामना कर पड़ रहा हैं । इस विपदा की घड़ी में हम सभी आप से अपील करते हैं कि 1.मांगलिक आयोजनों में कम से कम 500 व्यक्तियों की अनुमति तुरन्त प्रदान की जाये, क्योंकि आगामी माह में वैवाहिक कार्यक्रम की बुकिंग प्रारम्भ हो गई है । 2.छोटे अथवा अनरजिस्टर्ड मांगलिक आयोजनकर्ता एवं उससे संबंधित अन्य समस्त सहयोगी बन्धुओं को आर्थिक अनुदान दिया जाये, जिससे वह सभी स्वयं व स्वयं के परिवार का जीवनयापन सुचारु रुप से कर सके। हमारे करबद्ध निवेदन को स्वीकार कर उक्त समस्याओं के जल्द निराकरण हेतु संबंधित मंत्री एवं अधिकारी को दिशानिर्देश देकर राहत प्रदान करेगें ऐसी आशा ही नहीं पुर्ण विश्वास है।