अतिक्रमण में भेदभाव की नीति को हम सहन नहीं करेंगे: नंदकुमारसिंह चौहान

खंडवा। सुशील विधानि।

प्रदेश में प्रशासन नाम की कोई चीज नहीं रह गई है। प्रशासन कांग्रेस का एजेंट बनकर कार्य कर रहा है जो लोकतंत्र में ठीक नहीं है। अधिकारी अपने नंबर बढ़ाने के लिए सिविल लॉ का दुरूपयोग कर रहे हैं। राजगढ़ की कलेक्टर ने भारत माता की जय एवं वंदे मातरम कहने पर कार्यकर्ता को थप्पड़ मारे यह उचित नहीं है हम इसकी घोर निंदा करते हैं। प्रशासन और कलेक्टर की भूमिका सत्ता और विपक्ष के बीच रैफरी की होती है न कि स्वयं बल्ला उठाकर चौके लगाने की। प्रदेश में भू माफियों के अतिक्रमण को लेकर भेदभाव किया जा रहा है। भाजपा का तोड़ा, कांग्रेस का छोड़ों यह नीति नहीं होना चाहिए। हम भू माफियाओं के अतिक्रमण को हटाने का स्वागत करते हैं लेकिन किसी भी हालत में भेदभाव हम स्वीकार नहीं करेंगे। मुख्यमंत्री कहते हैं हम भू माफियाओं को समाप्त कर रहे हैं