खंडवा।सुशील विधानी।

लोकायुक्त पुलिस ने मंगलवार को खंडवा की बाहेती कॉलोनी में एक पटवारी को सेवानिवृत्त शिक्षक से चार हजार रुपए की रिश्वत लेते पकड़ा। सेवानिवृत्त शिक्षक ने जैसे ही सिर से टोपी हटाकर लोकायुक्त पुलिस को इशारा किया, लोकायुक्त पुलिस ने तीसरी मंजिल पर पहुंचकर रिश्वतखोर पटवारी को धरदबोचा। मामले में लोकायुक्त पुलिस पटवारी को लेकर कोतवाली थाने पहुंची। यहां पटवारी के भाई ने लोकायुक्त पुलिस पर अपने भाई से मारपीट का आरोप भी लगाया।

केंद्रीय विद्यालय के सेवानिवृत्त शिक्षक मांगीलाल प्यासे की सुरगांव जोशी में छह एकड़ जमीन है, जिसमें छह भाईयों का हिस्सा है। जमीन नामांतरण कराने के लिए प्यासे ने छैगांवमाखन तहसील में आवेदन दिया था। यहां पदस्थ पटवारी राजेश धात्रक ने जमीन नामातंरण करने के बदले प्रत्येक भाई से 10-10 हजार रुपए की रिश्वत मांगी थी। जिसमें मांगीलाल प्यासे अपने हिस्से की जमीन नामांतरण के लिए 8 हजार रुपए देने को राजी हुए थे। मांगीलाल ने पटवारी राजेश धात्रक को दो हजार रुपए पहले दिए थे, लेकिन वो नामांतरण न करते हुए बार-बार रुपए की मांग कर रहा था। जिसके बाद आवेदक ने लोकायुक्त पुलिस को शिकायत की थी।

थाने में हुआ हंगामा
मंगलवार सुबह 11.40 बजे मांगीलाल बाहेती कॉलोनी स्थित पटवारी के घर पहुंचे थे। यहां तीसरी मंजिल पर पटवारी राजेश धात्रक ने उन्हें बुलाया और रिश्वत की राशि 4 हजार रुपए ली। जिसके बाद आवेदक ने खिड़की से टोपी उतारकर लोकायुक्त पुलिस को इशारा किया। लोकायुक्त पुलिस पटवारी को पकड़कर थान ले आई। यहां पहुंचे पटवारी के भाई संतोष धात्रक ने लोकायुक्त पुलिस पर मारपीट का आरोप लगाते हुए हंगामा किया। जिसके बाद पुलिस ने उन्हें बाहर निकाला। घटना की जानकारी मिलने पर जिलेभर के पटवारी भी थाने में इकट्ठा हो गए।