खंडवा। सुशील विधानि।

ओंकारेश्वर में परिक्रमा पद पर लगी याचिका के संबंध में ओंकारेश्वर के जनप्रतिनिधि और नगरवासी जिला कलेक्टर से मिलने खंडवा कलेक्ट्रेट कार्यालय पहुंचे। ओंकारेश्वर के पीडि़त लोगों ने पूर्व जिलाध्यक्ष हरीश कोटवाले व समाजसेवी सुनील जैन के साथ एडीएम नंदा भुलावे कुशरे से मुलाकात कर चर्चा करते हुए वस्तुस्थिति से अवगत कराते हुए कहा कि इन वार्डो में रहने वाले नगरवासी कई पीढिय़ों से रहते हैं और यह इनका रहवास है, अगर इन्हें हटा दिया जाएगा तो यह अपने परिवार के साथ कहां जाएंगे।

इनमें से कुछ परिवारों को पट्टे और घर-घर शौचालय और आवास योजना शासन से मिली हुई है और यह वार्ड आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र है यहां पर आदिवासी और कहार डीमर वर्ग के परिवार रहते हैं और मजदूरी और छोटी दुकान लगाकर फूल पत्ती बेचकर अपने-अपने परिवार का पेट पालते हैं। समाजसेवी सुनील जैन ने बताया कि ओंकारेश्वर के किसी व्यक्ति ने परिक्रमा मार्ग पर अतिक्रमण को लेकर आपत्ति लगाई है। जानकारी अनुसार उन्होंने राजराजेश्वरी और रूद्राक्ष गार्डन के किए अतिक्रमण पर आपत्ति ली है लेकिन जब भी अतिक्रमण मुहिम शुरू होती है तो इनके बजाय गरीबों के आशियाने तोडऩे की कार्यवाही की जाती है।

मुख्यमंत्री कमलनाथ जी द्वारा भू माफियाओं द्वारा किए गए अतिक्रमणों को तोडऩे के सख्त आदेश है जो स्वागत योग्य हैं लेकिन भू माफियाओं के बजाय प्रशासन गरीबों पर भी कार्यवाही शुरू कर देता है। जबकि मुख्यमंत्री का स्पष्ट आदेश है कि किसी भी गरीब को अतिक्रमण के नाम से परेशान न किया जाए। कार्यवाही भू माफियाओं पर ही हो। ओंकारेश्वर से आए सभी पीडि़त लोगों ने कलेक्टर से निवेदन है कि हम वर्षो से यहां रहकर अपना जीवन यापन कर रहे है और समय-समय पर शासन प्रशासन को सहयोग भी प्रदान करते हैं। लेकिन हमारे झोपड़ों को तोड़कर हमें बेघर न किया जाए। इस अवसर पर हरीश कोटवाले, भाजपा जिला प्रवक्ता सुनील जैन, पार्षद जुगनू वर्मा, पार्षद पति राजू बलखेड़े और पंचायत उपाध्यक्ष प्रतिनिधि योगेंद्र पुरोहित सहित बड़ी संख्या में क्षेत्रवासी उपस्थित थे।