लूट की घटना को अंजाम देने वाले ‘बंटी-बबली’ धराए, 12 लाख के मोबाइल किए चोरी

खंडवा। सुशील विधानि। 

खंडवा कई जिलों में रेकी कर दुकानों को टारगेट बनाकर ऐश करना बंटी बबली को महंगा पड़ा आखिर पुलिस की गिरफ्त में आ ही गए बंटी और बबली हम बात कर रहे हैं हाल ही में

मून्दी के सुभाष चौक मे स्थित सिन्गाजी मोबाइल सेन्टर पर लाखों की चोरी के मामले मे मून्दी पुलिस ने आरोपी अब्बास उर्फ़ चन्दु तथा आरती पति गणेश प्रजापति को गिरफ़्तार किया इनके कब्जे से  नगदी के अलावा चोरी किये गये महँगे मोबाइल भी बरामद किये गये है. टी आई अंतिम पवार ने बताया कि कई जिलों की पुलिस इनका पकड़ने के लिए जाल बिछाया था लेकिन दुकानों को टारगेट बनाकर यह दोनों भाग जाते थे पुलिस अधीक्षक डॉक्टर शिव दयाल सिंह के नेतृत्व में टीमों का गठन कर शुरुआत हुई सीसीटीवी कैमरे की की मदद ली गई पहले तो यह है मुख्य आरोपी अब्बास जिस पर पहले से ही 6 मामले दर्ज हैं हरदा टिमरनी में हमारे द्वारा बीड़ से सीसीटीवी कैमरे से एक शुरुआत की गई और हरदा टीम रवाना हुई जहां पर अब्बास नाम का यह युवक पहले से ही कई मामले दर्ज है जिस पर टिमरनी में भी कई अपराध किए थे और जो लड़की है उसका नाम आरती  प्रजापति जो मूल्य तय भुसावल की रहने वाली है इस पर जांच की जा रही है अभी तक जो जांच आई है उसमें इस पर कोई भी अपराधी नहीं दर्ज है आरोपियों ने बीड़ क्षेत्र में जो दुकान में लूट की थी लाखों रुपए के मोबाइल चुरा कर ले गए थे उन्होंने जो नगद राशि थी उन राशि से टवेरा वाहन खरीदा उस वाहन से ऐश से घूमते थे लेकिन उनके वाहन की टक्कर भुसावल में पिकअप वाहन से हो गई जहां दोनों ही वाहनों मैं टूट-फूट हो गई और इनको भी चोट आई है टवेरा वाहन जप्त कर लिया गया है उनके पास से मोबाइल जप्त किए गए हैं महिला आरती प्रजापति के पास से एक प्रेस कार्ड भी जप्त हुआ है पूर्व में यह मार्केटिंग का काम करती थी भुसावल की रहने वाली है अब्बास से संपर्क आने पर इसने अपराध की दुनिया में कदम रखा उनके द्वारा संयुक्त रूप से जो लूट की घटना को अंजाम दिया है उन्होंने घटना को कबूल किया है अपना गुनाह कबूल किया है कि हमारे द्वारा ही मोबाइल दुकानों को टारगेट बनाया जाता था आरोपियों से पूछताछ जारी है अन्य ग्रहों से भी तो संपर्क नहीं है लेकिन पुलिस को एक बड़ी सफलता मिली है। आरोपियों पर पूर्व में पुलिस द्वारा 380 और 457 धारा के तहत मामला दर्ज किया था।  इन अपराधियों को पकड़ कर पुलिस अधीक्षक डॉक्टर शिव दयाल सिंह ने  पुलिस टीम को खंडवा इस घटना का पर्दाफाश करने के लिए  इनाम देने का ऐलान किया