VIDEO : अब यहां ग्रामीणों ने किया मतदान का बहिष्कार, अभी तक एक वोट भी नही डला

Voting-boycott-in-MP-Khandwa-BY-The-villagers

खंडवा।सुशील विधानी।

खंडवा मध्य प्रदेश के खंडवा जिले  के पंधाना तहसील के ग्राम  खड़की ग्राम में विधानसभा चुनाव में भी किया था बहिष्कार किया था ।ग्रामीणों  खड़की गांव के लोगों ने चुनाव का बहिष्कार किया है ।दो दशकों से अधिक वक्त से उचित सड़क बनाने की अपनी मांग उठा रहे है ,लेकिन उसे दबा दिया जाता है। अधिकारियों की उपेक्षा और उदासीनता से परेशान हो चुके ग्रामीणों ने अब इसे चुनावी मुद्दा बनाने का निर्णय लिया है और लोकसभा चुनावों का बहिष्कार करने की धमकी दी और 19 तारीख को आज के दिन ग्रामीणों ने खबर लिखने तक एक भी ग्रामीण ने वोट नहीं डाला था। 

लोकसभा चुनावों के बहिष्कार का निर्णय लिया साथ ही पूरे गांव में संयुक्त रूप से आह्वान करने वाले बैनर गांव के चारों तरफ दिखाई लगाए गए , ऐसे ही एक बैनर में लिखा है, ‘रोड नहीं तो वोट नहीं’। इस गांव में पिछली बार भी विधानसभा में 4 वोट डाले थे इस बार भी लोकसभा चुनाव में 4 वोट डाले हैं और सेवा बोर्ड मिलाकर कुल 11 वोट डाल चुके हैं जो कर्मचारी ड्यूटी करते हैं वहां वोट डाल सकते हैं उसे सेवा वोट कहते हैं दोनों को मिलाकर 11 वोट डाल चुके हैं ।

ग्रामीणों ने कहा है कि इस प्रकार अगर निराकरण ना होता है तो आगे भी हम चुनाव का बहिष्कार करेंगे और अगली बार से यहां पर  चुनाव बूथ भी नहीं बनने देंगे ग्राम में जाने के रास्ते नहीं होने के कारण बच्चे स्कूल नहीं जा पाते हैं सप्ताह में 2 दिन स्कूल का ही जाना हो पाता है तथा डिलीवरी के कारण कई बार वहां पर महिलाओं की मौत हो चुकी है।

 अपर कलेक्टर ने जी को संज्ञान में पिछले विधानसभा में भी दिलाया था और अभी कुछ दिन पूर्व भी गिरा कर ग्रामीणों ने अपनी समस्या का बताया तब अपर कलेक्टर द्वारा यह कहा गया कि हमें तो लगा था कि आपकी समस्या का समाधान हो गया है अब फिर से हम उस को संज्ञान में लेते हैं ग्राम खड़की पनधाना तथा खंडवा जिले के मध्यस्थ आता है जिसके कारण यहां ठेकेदार काम करने में असमर्थ होते हैं दोनों सिरों के समाज में ही यहां का रोड पूर्ण हो सकता है यही यहां का एक ही कारण है

इस गांव में कोई भी पार्टी के द्वारा प्रचार करने नहीं आया और ना ही किसी ने अनुरोध किया है कि यहां पर आप अपना वोट डालें ग्रामीणों ने पूर्ण रूप से यह बहिष्कार प्रशासन एवं प्रशासनिक अधिकारियों को बार बार अवगत कराने के बाद ही किया है।