सरकार मंदिर एक्ट से दादाजी भक्तों में खुशी की लहर, दादाजी धाम पर मंदिर निर्माण का होगा मार्ग प्रशस्त

खंडवा। सुशील विधानि।

मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार ने प्रदेश के 8 मंदिरों के लिए अब एक कॉमन मंदिर एक्ट तय किया है। अभी तक हर मंदिर का अलग एक्ट होता है, लेकिन नया एक्ट आने के बाद सभी मंदिर एक ही एक्ट के दायरे में आएंगे। इसमें कलेक्टर के हाथ में मंदिर की कमान रहेगी। अभी अनेक मंदिरों में ट्रस्ट व समिति के हाथ में मंदिर की कमान होती है। वहीं प्रदेश की 8 मंदिरों में  खंडवा के  प्रसिद्ध  दादाजी धूनीवाले दादाजी का मंदिर  भी शामिल हैं। अभी तक दादाजी धाम की कमान मंदिर ट्रस्ट के पास थी, लेकिन अब इसकी कमान कलेक्टर के पास रहेंगी। वर्तमान में खण्डवा के दादाजी धाम सहित चुनिंदा बड़े मंदिरों के लिए अलग-अलग एक्ट है, लेकिन नया मंदिर एक्ट आने पर सभी पर यूनिफार्म नियम लागू होंगे। सरकार ने इसका मसौदा तैयार कर लिया है, नए मंदिर एक्ट के तहत भगवान को ही पूरे संचालन का कर्ता-धर्ता माना जाएगा, लेकिन भगवान के प्रतिनिधि के रूप में कलेक्टर के पास प्रशासन की कमान रहेगी। कलेक्टर ही संबंधित मंदिर की कमेटी या ट्रस्ट का प्रमुख होगा। इससे कलेक्टर के अधिकार बढ़ जाएंगे, जबकि मंदिर समिति के अधिकारों में कमी आएगी।  समाजसेवी सुनील जैन ने बताया कि सरकार के इस फ़ैसले का  दादाजी धूनीवाले मंदिर के भक्त स्वागत कर इसे अच्छा और सही निर्णय बता रहे हैं। भक्तों का कहना है कि इस फैसले से मंदिरों का विकास होगा, इस निर्णय से दादाजी मंदिर की व्यवस्थाएं यथावत रहेंगी सिर्फ व्यवस्थापाक बदलेंगे। साथ ही वर्षो से दादाजी धाम पर बनने वाले पांचवे धाम का मार्ग प्रशस्त होगा। मुख्यमंत्री ने हर मंदिरों के लिए कुछ नियम बना दिये है, कुछ समिति बना दी है, सब मंदिरों में एक जैसा संचालन हो, मंदिर एक जैसा चले, जिससे यहां आने वाले भक्तों को सुविधा मिले, मंदिरों के जो रीति रिवाज है उन्हें वैसे ही रखकर विकास किया जाए। मुख्यमंत्री ने स्पष्ट किया है कि मंदिरों के साथ को कोई छेडख़ानी नहीं की जाएगी। मंदिरों का विस्तार एवं निर्माण वास्तु  शास्त्र  पद्धति से किया जाएगा।