Khargone News: टॉउन हाल में मनाया अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस, घर में भी शब्दों का चयन सकारात्मक होना चाहिए-कलेक्टर

यहां महिला एवं बाल विकास विभाग (ministry of women and child development) द्वारा महिलाओं के सम्मान के लिए अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस(Women's Day) का आयोजन किया गया था। नपा टाउन हाल में बनाए गए मंच पर सभी महिला अधिकारी ही विराजमान रहीं।

खरगोन, बाबूलाल सारंग। स्थानीय नपा टॉउन हॉल में सोमवार को पूरा हाल महिलाओं से भरा था। यहां महिला एवं बाल विकास विभाग (ministry of women and child development) द्वारा महिलाओं के सम्मान के लिए अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस(International Women’s Day) का आयोजन किया गया था। इस वर्ष महिला दिवस पर जिले में विशेष उत्साह का कारण यह भी देखा गया कि जिले की मुखिया एक महिला कलेक्टर है। इसलिए भी महिलाओं में इसकों लेकर गहरी रूचि दिखाई दी। वैसे जिले में कई महिला अधिकारी है। इनमें सीएमएचओ, महिला बाल विकास अधिकारी, सीएमओ, आरटीओ, खेल अधिकारी, पिछड़ा वर्ग विभाग की सहायक संचालक, रक्षित निरीक्षक सहित अन्य महिला अधिकारी वर्तमान में कार्यरत है। इसलिए भी कार्यक्रम में भव्यता नजर आ रही थी। नपा टाउन हाल में बनाए गए मंच पर सभी महिला अधिकारी ही विराजमान रहीं। वहीं कार्यक्रम में महिलाओं से ही कुर्सिया भरी रहीं। कार्यक्रम के दौरान नार्मदीय महिला मंडल, अखिल भारतीय ब्राह्मण महासभा, इन्हरव्हील क्लब एवं महेश्वरी ग्रुप द्वारा सभी महिला अधिकारियों का सम्मान किया गया।

ये भी पढ़े- Women’s Day Special: 17 साल की खुशी ने बांटी सेहत, 11 हजार निशुल्‍क सेनेटरी पैड वितरण कर बनाया विश्व रिकोर्ड

बच्चों को अब गुड़ टच और बेड टच के बारे में पता होना चाहिए

कलेक्टर श्रीमती अनुग्रहा पी ने महिलाओं को संबोधित करते हुए कहा कि मूलरूप से महिलाओं की दो सबसे अहम जिम्मेदारी है एक स्वयं का ध्यान रखना और दूसरा समुदाय का निर्माण। आजकल बच्चों के विकास में शब्दों का बड़ा महत्व होता है। इसलिए हमारे घरों में आपसी बातचीत के दौरान शब्दों का चयन सकारात्मक होना चाहिए। इसके अलावा शिक्षा और परिवार नियोजन पर भी महिलाओं को ध्यान देना होगा। क्राईम बढ़ रहा है इसलिए व्यवहार परिवर्तन हमें अपने घरों से ही शुरू करना होगा।

हमारे बच्चों को अब गुड़ टच और बेड टच के बारे में पता होना चाहिए। बेटे व बेटियों को खासकर बेटों को सिखाना होगा कि महिलाओं का सम्मान कैसे करना चाहिए। कार्यक्रम के दौरान अपने संक्षिप्त संबोधन में एडीजे श्रीमती गीता सोलंकी ने कहा कि एक स्त्री काफी है घर को स्वर्ग बनाने के लिए। एडीजे श्री सुभाष सोलंकी ने संबोधित करते हुए महिलाओं को महिला दिवस की शुभकामनाएं दी। कार्यक्रम के दौरान शासकीय योजनाओं को बेहरत प्रदर्शन करने वाले आंगनवाड़ी कायकर्ता व स्व सहायता समुहों से जुड़ी महिलाओं को भी प्रशंसा पत्र प्रदान किए गए।