लोकायुक्त इंदौर की कार्यवाही, जेई और लाइनमैन को रिश्वत लेते पकड़ा

लोकायुक्त टीम ने जूनियर इंजीनियर (जेई) और लाइनमैन के विरुद्ध भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम और धारा 120 बी भादवि के अंतर्गत मामला पंजीबद्ध कर वैधानिक कार्रवाई की जा रही है।

Shivpuri News

खरगोन, डेस्क रिपोर्ट। खरगोन (Khargone) जिले से एक बड़ी खबर आ रही है, की इंदौर लोकायुक्त पुलिस ने शिवना में विद्युत वितरण कंपनी के जूनियर इंजीनियर (जेई) और लाइनमैन को 22 हजार की रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ लिया है। बता दें कि लोकायुक्त टीम ने पहले लाइनमैन फिर जेई को रंगेहाथों रिश्वत लेते गिरफ्तार किया है।

यह भी पढ़े…देश महंगे मोदीवाद से पस्त और त्रस्त-कांग्रेस की राष्ट्रीय प्रवक्ता रागिनी नायक का बयान

आपको बता दें की खरगोन जिले के झिरन्या तहसील क्षेत्र के मिटावल निवासी महेश सेपरिया ने शिवना विवि कंपनी ऑफिस में अपने क्षेत्र में बिजली कनेक्शन के लिए आवेदन दिया था। कनेक्शन के एवज में ग्राम शिवना विवि कंपनी कार्यालय में पदस्थ जूनियर इंजीनियर (जेई) श्याम सोने और लाइनमैन पदमभूषण तिवारी द्वारा किसान से 40 हजार की रिश्वत राशि की मांग की गई थी। जिसके बाद आवेदक महेश ने लोकायुक्त कार्यालय इंदौर में शिकायत की। लोकायुक्त ने ट्रैप दल गठित कर लाइनमैन पदमभूषण तिवारी को आवेदक से 22 हजार रिश्वत राशि लेते हुए पकड़ा।

यह भी पढ़े…कटनी में बहुप्रतीक्षित ब्रिज का मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने लोकार्पण कर, अफसरों को सुनाई खरी खरी

लोकायुक्त टीम ने फिर लाइनमैन की जूनियर इंजीनियर (जेई) श्याम सोने से बात कराई, जिसकी रिकॉर्डिंग की गई। और 5 घंटे इंतजार करने के बाद जूनियर इंजीनियर (जेई) ने बस स्टैंड पर लाइनमैन को पैसे लेकर बुलाया। तब लोकायुक्त की टीम लाइनमैन को साथ में लेकर योजना के तहत जूनियर इंजीनियर (जेई) को रंगे हाथ पकड़ा लिया। लोकायुक्त टीम ने जूनियर इंजीनियर (जेई) और लाइनमैन के विरुद्ध भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम और धारा 120 बी भादवि के अंतर्गत मामला पंजीबद्ध कर वैधानिक कार्रवाई की जा रही है।