अपनों ने ही ली नाबालिग की जान, पुलिस ने किया खुलासा, 5 आरोपी गिरफ्तार

बड़वाह, बाबुलाल सारंग। सनावद थाना क्षेत्रां में 17 मार्च 2021 को फरियादिया निवासी गांधी नगर ग्राम खंगवाड़ा थाना सनावद ने अपने पति के साथ थाना सनावद में रिपोर्ट दर्ज कराई कि उसकी नाबालिग लड़की को 16 मार्च की शाम 7.30 बजे कोई अज्ञात व्यक्ति बहला फुसलाकर ले गया है। थाना सनावद पर अपराध क्रमांक 106/21 धारा 363 भादवि का पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया। इसके बाद 18 मार्च को नाबालिग लड़की का शव उसके घर से कुछ दूरी पर खेत में बने एक कुए में मिला, जिस पर थाना सनावद पर मर्ग कायम कर मृतिका का सिविल अस्पताल सनावद से पोस्ट मार्टम (Post Mortem) कराया गया। जिसमें पता चला कि मृतिका की मृत्यु पानी में डूबने से ना होकर मुंह दबाकर दम घुटने से हुई है।

ये भी पढे़ – Corona संक्रमण का खतरा बढ़ा, तो दुकानदारों ने अफवाह फैलाकर बढ़ाये दाम, प्रशासन भी हुआ लापरवाह

लड़की के अपहरण के बाद हत्या के मामले को गंभीरता से लेते हुए पुलिस अधीक्षक श्री शैलेंद्रसिंह चौहान ने जल्द से जल्द खुलासा कर हत्या के आरोपी की गिरफ्तारी के निर्देश दिए। एसडीओपी मानसिंह ठाकुर के निर्देशन में सनावद थाने से थाना प्रभारी ललित सिंह डागुर के नेतृत्व में टीम का गठन किया गया। पुलिस टीम को पता चला कि लड़की की हत्या के पीछे उसके परिवार के लोगों का ही हाथ है। इसी सुचना के आधार पर लड़की की माता रेखा, पिता राकेश व भाई रोहित तीनों निवासी खंगवाड़ा तथा बुआ पिंकी व फूफा महेश दोनों निवासी बकावां को थाने पर बुलाकर घटना के संबंध में पूछताछ की गई।

ये भी पढे़बढ़ते रेप मामलों पर कांग्रेस प्रवक्ता भूपेंद्र गुप्ता ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा इसके लिए भी एक नारियल फोड़ दें

अपनों ने ही की नाबालिग की हत्या
पूछताछ के दौरान पिता राकेश ने बताया 16 मार्च की शाम मेरी पत्नी रेखा को बहन पिंकी ने बताया कि रेशमा के पास एक मोबाईल है, जिससे वह किसी लड़के से बात करती है। इस बात पर रेखा ने लड़की रेशमा से पूछा कि उसके पास मोबाईल कहां से आया है, तो रेशमा ने कुछ नहीं बताया इसी बात पर से रेखा, राकेश, रोहित, पिंकी तथा महेश ने रेशमा के साथ मारपीट की। तो वह रात्री को घर से जाने वाली थी, तो रेशमा को मेने व उसकी मां रेखा, भाई रोहित, बुआ पिंकी तथा फूफा महेश सभी ने मिलकर और उसके भाई रोहित ने एक दुपट्टे से उसका मुंह दबा दिया। जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। सभी ने मिलकर उसके शव को घर के दूसरे कमरे में रखी कोठी के पास छुपा दिया और तडके करीब 4 बजे शव को घर के पीछे स्थित खेत के कुए में फेंक दिया। अगले दिन रेखा और मेने थाने पर जाकर लड़की रेशमा के गुम हो जाने की रिपोर्ट लिखवाई।