देशी निमाड़ी बीजों का संकलन कर बनाया बीज बैंक, कृषि ग्रामीण अधिकारी का इंदौर मेले में होगा संबोधन

ग्रामीण विस्तार अधिकारी पीएस बार्चे ने अपना यू-टयूब(Youtube) चैनल नेच्यूरल फार्मिंग एंड केयर(Natural Farming And Care) के नाम से वर्ष 2012 से शुरू किया है।

खरगोन, बाबुलाल सारंग। पिछले 10 वर्षों से निमाड़ी बीजों के साथ-साथ देशी बीजों के भी संकलन में जुटे ग्रामीण विस्तार अधिकारी पीएस बार्चे को इंदौर(Indore) के कृषि महाविद्यालय में आयोजित हो रहे चार दिवसीय जैविक मेले में संबोधन के लिए आमंत्रित किया गया है। इस मेले में प्रदेशभर के न सिर्फ जैविक किसान व व्यापारी, बल्कि जैविक अध्ययताओं व विशेषज्ञों को भी बुलाया जा रहा है। 1994 से जिले में पदस्थ बार्चे ने जिले में 500 से अधिक किसानों को जैविक और प्राकृतिक खेती के तौर तरीकों के बारे में प्रशिक्षित किया और निरंतर वे इस कार्य में जुटे हुए है। इसके अलावा आरएईओ बार्चे ने बीज बैंक बनाने की दिशा में उनका अपना नवाचार भी महत्वपूर्ण कढ़ी में से एक है। पिछले कई वर्षों से वे इस दिशा में कार्य करते हुए अब तक लगभग 12 से 15 प्रजाति की देशी किस्मों के बीज संकलन कर चुके है। बीजों के संकलन करने के पश्चात जैविक किसानों को वे संरक्षण व संवर्धन के लिए भी प्रेरित करने लगे है। आएईओ श्री बार्चे को देशी बीज बैंक और जैविक खेती के प्रशिक्षण के लिए वर्ष 2019 में जैव विविधता बोर्ड भोपाल द्वारा राज्य स्तरीय(State Level) द्वितीय पुरस्कार प्रदान किया जा चुका है।

ये भी पढे़- पंचायत चुनाव से पहले CEO का एक्शन- 6 प्रधानों को नोटिस, 2 दिन में मांगा जवाब

साठी मक्का और लाल निमाड़ी तुअर का भी किया संकलन
पिछले 10 वर्षों से बीज बैंक(Seed Bank) बनाने की दिशा में आरएईओ बार्चे ने अब तक देशी किस्मों के साथ-साथ निमाड़ी किस्म के बीजों का भी संरक्षण प्रारंभ किया है। दरअसल शंकर किस्म के बीज आने के बाद से देशी व निमाड़ी बीजों का उपयोग समाप्ति की कगार पर पहुंच चुका है। यह बीज पूरी तरह नष्ट हो जाए, इससे पहले उनका संवर्धन करने की दिशा में बीज बैंक(Seed Bank) बनाना प्रारंभ किया है। आरएईओ बार्चे के बीज बैंक में निमाड़ की प्रसिद्ध साठी सफेद, लाल व पीली मक्का का भी संवर्धन किया है। पीली मक्का जो अक्सर हम धानी व पॉपकान में प्रमुखता से उपयोग होती है। इसके अलावा निमाड़ की शालू मिर्च और निमाड़ी लाल तुअर का भी संवर्धन कर किसानों को प्रदान करने पश्चात अब यह बीज क्विंटलों में हो गए है। आरएईओ बार्चे ने बीजों का संकलन कर खरगोन के ही अविनाश दांगी, सुधीर पटेल, महेंद्र पाटीदार, रमेशचंद्र महाजन, अनुराग पटेल, दिलीप पाटीदार, ओमप्रकाश, माधव पाटीदार जैसे कई किसानों को देशी बीज संकलन करके प्रदान किए है। आज यह बीज क्विंटलों में एकत्रित हो चुके है।

देशी निमाड़ी बीजों का संकलन कर बनाया बीज बैंक, कृषि ग्रामीण अधिकारी का इंदौर मेले में होगा संबोधन

ये भी पढे़- कोरोना गाइडलाइन का पालन नहीं करने पर प्रशासन सख्त, अब तक पुलिस ने वसूला 1 करोड़ 43 लाख रुपये का जुर्माना

आरएईओ बार्चे द्वारा तैयार बीज बैंक(Seed Bank) में न सिर्फ निमाड़ी बल्कि देशी बीजों में मूंगफली, अरहर, उड़द, लौकी और टमाटर तथा रागी, माकरा, कंगनी एवं सावा आदि बीजों का संकलन मौजूद है। यह देशी बीज श्री बार्चे ने अलीराजपुर, अंबिकापुर, सरगुजा और कर्नाटक राज्य के हिस्सों से लाकर भी एकत्रित किए है। आरईओ बार्चे ने अपना यू-टयूब(Youtube) चैनल नेच्यूरल फार्मिंग एंड केयर(Natural Farming And Care) के नाम से वर्ष 2012 में बनाया था। जिसकी मदद से वो किसानों को वीडियों(Video) व जैविक कनटेंट के माध्यम से जहरमुक्त खेती को प्रोत्साहित करने की दिशा में कार्य कर रहे है।