सुभाष यादव फाउंडेशन के बैनर तले स्वास्थ्य शिविर अव्यवस्थाओं की भेंट चढ़ा

खरगोन, बाबूलाल सारंग। लोकसभा चुनाव की तैयारियों को लेकर अरुण यादव द्वारा शनिवार को बड़वाह में आयोजित स्वास्थ्य परामर्श शिविर अव्यवस्थाओं की भेंट चढ़ गया। इस शिविर का उद्घाटन अरुण यादव, विधायक सचिन बिर्ला के साथ कांग्रेस के अन्य नेताओं द्वारा किया गया। शिविर का प्रचार प्रसार दो तीन दिन तक बड़वाह के आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों में ढिंढोरा पीटकर किया गया| निशुल्क शिविर के नाम से प्रचारित इस आयोजन में हजारों ग्रामीण आए, लेकिन इलाज के नाम पर उन्हेंं सुनने को मिली बुरहानपुर के निजी अस्पताल के डॉ आनन्द चौकसे द्वारा अपने अस्पताल की तारीफ। मरीजों को मामूली पेरासिटामोल व एसिलाक की गोलियां पर्चे पर लिख दी और कहा गया कि यह दवाइयां बड़वाह के सरकारी अस्पताल से ले लें। वहीं कई मरीजों को इलाज के लिए बुरहानपुर आने को भी कहा गया।

शिविर में पहुंचे लोगों को खासा परेशान होना पड़ा। लग रहा था कि स्व. सुभाष यादव फाउंडेशन के बैनर तले शिविर मात्र बुराहनपुर के एक निजी अस्पताल का प्रचार का साधन बन कर रह गया है। क्योकि पूरे आयोजन में बुरहानपुर के इस अस्पताल व इसके चिकित्सको की तारीफों के कसीदे गढ़े गए और ग्रामीण क्षेत्रो से परामर्श शिविर में जांच के लिए पहुंचे आमजन परेशान होते नजर आए। महेश्वर रो स्थित कृषि उपज मंडी में आयोजित स्वस्थ्य शिविर में अलग-अलग काउंटर पर चिकित्सक जांच के लिए बैठे हुए थे। जो भी लोग काउंटर पर पहुंचते, चिकित्सको ने उन्हें ऑल इज वेल हास्पिटल की फ़ाइल पर पर्ची में दवाइया लिख कर सीधे बड़वाह के शासकीय अस्पताल में भेज रहे थे। चिकित्सक मरीजों को कह रहे थे कि यह दवाइया आपको बड़वाह शासकीय अस्पताल में मिलेगी। ग्रामीण क्षेत्रों से आए मरीज पैदल बड़वाह शासकीय अस्पताल पहुंच रहे थे। यहा भी मरीजों ने पर्ची कटवाकर दवाइयां ली। इस आयोजन पर भाजपा नगर मण्डल अध्यक्ष चन्द्रपाल सिंह तोमर ने कहा कि कांग्रेस द्वारा लोकसभा चुनाव की तैयारी को लेकर यह आयोजन किया गया था, जो पूरी तरह फ्लॉप हो गया।