भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। दुनिया में पति- पत्नी का रिश्ता सबसे खूबसूरत रिश्ता होता है। दोनों अपनी आपसी समझ और प्रेम से अपने परिवार को आगे बढ़ाते है और एक खुशहाल जीवन जीते हैं। लेकिन कई बार पति पत्नी के बीच छोटी छोटी बातों पर विवाद इतना बढ़ जाता है कि वो पारिवारिक कलह का रुप ले लेता है और बात तलाक तक पहुंच जाती है। ऐसे ही कुछ मामले इन दिनों कुटुंब न्यायालय (Family court) में पहुंच रहे हैं, जो हैरान कर रहे हैं। पति अपनी पत्नी से सिर्फ इसलिए तलाक लेना चाहते है क्योंकि वो उन्हें अजीबो गरीब प्यार भरे नाम से बुलाती है।

राजधानी भोपाल (bhopal) के कुटुंब न्यायालय में इन दिनों लड्डू, एटीएम, बाला और करिया की वजह से तलाक के मामले बढ़ गए है। दरअसल यह सब कोई खाने या इस्तेमाल करने की चीज नहीं है बल्कि वो प्यार भरे नाम है, जिनसे पत्नियां अपने पति को पुकारती है, लेकिन पतियों को यह नाम नागवार गुजर रहे हैं। पति नहीं चाहते है कि उनकी पत्नियां उन्हें इस नाम से पुकारे और तलाक की अर्जी लेकर कुटुंब न्यायालय पहुंच रहे हैं। दरअसल तलाक के अर्जी के बाद जब कोर्ट ने पति पत्नी को काउंसिलिंग के लिए बुलाया तो ऐसे मामले सामने आए। जहां पतियों को अपनी पत्नी के अजीबो गरीब प्यार भरे नाम लेने पर आपत्ति है और उनके घर टूटने की कगार पर आ गए है। आज हम आपकों बताने जा रहे हैं कुछ ऐसे ही मामलों के बारे में:

पहला मामला
भोपाल में एक पति के काले रंग के कारण पत्नी ने उसे करिया कहना शुरू कर दिया। शुरू- शुरू में तो पति ने पत्नी के नाम को प्यार से स्वीकार किया लेकिन बच्चें होने बाद उन्हें भी यही लगा कि उनके पिता का नाम करिया है और किसी दिन स्कूल की पीटीएम में टीचर के पूछने पर पिता का नाम करिया बता दिया। इसके बाद से पति का गुस्सा फूट पड़ा और घर में विवाद होने लगा। शादी के 10 साल बाद पति ने कुटुंब न्यायालय में तलाक की अर्जी लगाई है।

दूसरा मामला
ऐसे ही एक अन्य मामले में महाराष्ट्रीयन परिवार अपने बेटे को घर में प्यार से बाला बुलाते थे। शादी के बाद पत्नी को भी उस नाम का पता चल गया। उम्र के साथ युवक के बाल झड़ते गए तो पत्नी ने फिल्म देखकर पति को भी बाला कहना शुरू कर दिया। पत्नी को देखरक घर के बाकि सभी लोग भी उसे बाला बुलाने लगे। फिर क्या था यही बाला नाम परिवार में फसाद की जड़ बन गया। झगड़ा इतना बढ़ गया कि मामला कोर्ट तक पहुंच गया। अब कुटुंब न्यायालय पति पत्नी को समझाइश दे रहा है।

तीसरा मामला
तीसरा मामला और भी दिलचस्प है। शादी के बाद पत्नियां अपने जरूरतों और शापिंग के लिए पति के पैसों को दिल खोल कर खर्च करती है और उन्हें अपना एटीएम बताती है। तीसरे केस में भी कुछ ऐसा ही हुआ। पत्नी ने शादी के कुछ दिनों बाद ही अपने पति का नाम एटीएम रख लिया और बाहर दूसरे के सामने भी उसे इसी नाम से पुकारने लगी। पति का कहना है कि व्हाट्सएप ग्रुप पर भी उसे एटीएम ही लिखा जाने लगा. जिससे वो हर जगह एटीएम के नाम से मशहूर हो गया। पति को यह नाम इतना बुरा लगा कि उसने पत्नी से तलाक का मन बना लिया।

चौथा मामला
लड्डू खाने में जितना मीठा होता है, चौथे केस में वह उतना ही कड़वा निकला। पति को अपने बचपन का निकनेन लड्डू पत्नी द्वारा लेना जरा पसंद नहीं आया। पति की शिकायत है कि उसने इस नाम को अपनी सहेलियों और आफिस फ्रेंड के बीच भी बता दिया। अब दोनों के बीच तलाक की नौबत आ गई है।