नवरात्रि के अंतिम दिन हुई माँ तुलजा चामुंडा की महाआरती, मंदिर में दिखा कोरोना का असर

देवास, अमिताभ शुक्ला। चैत्र नवरात्रि के अंतिम दिन नवमी तिथि पर आज बुधवार को माँ तुलजा चामुंडा की महाआरती  की गई। कोरोना महामारी के चलते जारी लाकडाउन के कारण ऍम श्रद्धालुओं के लिए मंदिर के पट बंद हैं।  इसलिए विधि विधान से 9 दिनों तक हुए पूजन पाठ के बाद आज रामनवमी पर पुजारी और पण्डितो ने ही  महा आरती की।

नौ दिनों तक चलने वाले देवी उपासना के पर्व नवरात्री का आज बुधवार को समापन हो गया। लेकिन देश प्रदेश के मंदिरों  और सिद्ध पीठों में कोरोना संक्रमण के कारण प्रवेश निषेध के चलते श्रद्धालु दर्शनों के लिए नहीं पहुँच सके। भक्तों ने अपने घर से आँख बंद मॉ का स्मरण किया और उनसे कोरोना महामारी से बचाने के लिए प्रार्थना की।

ये भी पढ़ें – कोरोना से 12 घंटे में चार और मरीजों की मौत, अब शादी और मृत्युभोज पर पूरी तरह पाबंदी

उधर देवास के प्रसिद्ध माता तुलजा और चामुंडा टेकरी पर स्थित सिद्ध स्थल माँ तुलजा चामुंडा की महाआरती नवमी तिथि पर संपन्न हुई जहां पर पंडित और पुजारियों द्वारा माता की पूजा अर्चना की गई । इस वर्ष भी कोरो नावायरस के चलते लॉक डाउन होने के कारण आम श्रद्धालुओं का माता टेकरी पर प्रवेश प्रतिबंध है , इसी के चलते प्रतिदिन होने वाले अनुष्ठान यज्ञ पूजन अर्चन आदि पंडितों और पुजारियों द्वारा ही संपन्न कराए गए और 9 दिनों तक नवरात्रि के दौरान पूजा आराधना का दौर जारी रहा। पंडित, पुजारियों ने भी कोरोना वायरस महामारी का विनाश करने की प्रार्थना माता तुलजा और चामुंडा से की है ।