ह्यूमन ट्रैफिकिंग – मंडला की 12 लड़कियों को लाया गया उत्तरप्रदेश के हाथरस

मंडला (mandla) से 12 युवतियों को सिलाई-कढ़ाई सिखाने का कहकर एक व्यक्ति उन्हे उत्तर प्रदेश के हाथरस (hathras of uttar pradesh) लेकर आया, जहां उन्हें एक कमरे में बंद कर दिया गया। लकड़ियां कमरे की खिड़की से भाग निकली। पुलिस लड़कियों की तलाश में जुट गई है।

mandla grils brought to hathras

मंडला,डेस्क रिपोर्ट। उत्तरप्रदेश के हाथरस गैंगरेप (Hathras gangrape of Uttar Pradesh)  का मामला अभी शांत भी नहीं हुआ था और वहां से एक और चौकाने वाला मामला सामने आया है, जहां मध्यप्रदेश के मंडला (Mandla) जिले की 12 युवतियों को हाथरस लाया गया था। दरअसल, बीती रात हाथरस के बस स्टैंड (Hathras Bus Stand) पर एक नाबालिग लड़की (Minor girl) रोती हुई मिली थी,जिसकी सूचना तुरंत पुलिस को दी गई। पुलिस ने मौके पर पहुंच कर लड़की से पूछताछ की तो लड़की ने बताया कि उसके साथ 11 और लड़कियों को मध्यप्रदेश के मंडला से हाथरस लाया गया है, जिसके बाद पूरा मामला ह्यूमन ट्रैफिकिंग (Human trafficking) का समझ आ रहा है।

ह्यूमन ट्रैफिकिंग का मामला

आगे नाबालिग ने बताया कि उसके परिवार को दो लोगों ने पैसे दिए थे ,जिसके बाद उसे कार में बैठाकर तीन दिन पहले यहां लाए थे। आगे खुलासा करते हुए लड़की ने बताया कि सिलाई सिखाने का बहाना कर के सभी लड़कियों को एक कमरे में बंद कर के रखा गया था। नाबालिग ने बताया कि उन्हें तीन दिन से भूखा प्यासा रखा गया है, जिसके बाद सभी लड़कियां जैसे तैसे कर के खिड़की से कूदकर भाग निकली।

लड़की ने पुलिस को बताया कि वो मध्यप्रदेश के मंडला की रहने वाली है। नाबालिग लड़की ने पुलिस को बताया कि एक व्यक्ति सिलाई-कढ़ाई सिखाने का कह कर उसके साथ 11 लड़कियों को यहां लेकर आया था। पुलिस मामले का ह्यूमन ट्रैफिकिंग (Human trafficking) का मानकर कार्रवाई कर रही है और बाकि 11 लकड़ियों की तलाश में पुलिस जुट गई है।

ये भी पढ़े- हाथरस कांड में निकला जबलपुर कनेक्शन, महिला ने नकली भाभी बनकर दिया मीडिया में बयान

वहीं पूरे मामले पर एसपी  (sp) ने कहा कि नाबालिग लड़की ने बताया कि उसके परिजनों की सहमति से एक व्यक्ति उन्हें सिलाई-कढ़ाई (Stitch embroidery) का काम सिखाने का कहकर उसके साथ उसी के गांव की 12 लड़कियों को दिल्ली (delhi) लेकर जा रहा था। इसी बीच कुछ दिनों पहले किसी जिले के बस स्टैंड के पास एक कमरा किराये पर लेकर उन सभी लड़कियों को रखा था। जैसे ही लड़कियों को शक हुआ वो वहा से भाग गई। वहीं इस नाबालिग लकड़ी ने बताया कि वो तीन दिन से लगातार चलने के बाद हाथरस (hathras) पहुंची है। नाबालिग के परिजनों से संपर्क कर लिया गया है, लड़की के पिता वाहन चालक है। डीएसपी पूरे मामले की जांच कर रहे है।

जबलपुर की महिला डॉक्टर को कारण बताओं नोटिस

बता दें कि हाल ही में हाथरस गैंग रेप (hathras gang rape victim) के पीड़ित परिवार के साथ जबलपुर की महिला डॉक्टर (female doctor of jabalpur) का लिंक सामने आया है। जबलपुर की महिला पर प्रदेश के मंत्री ने नक्सिलियों (Naxalites) से जुडा होना बताया है, वहीं महिला ने अपने उपर सारे आरोपों को बेतुका बताया है। महिला डॉक्टर का कहना है कि वो पीड़ित परिवार के पास मानवता के नाते गई थी। बता दें कि महिला चिक्तिसक को कारण बताओं नोटिस जारी किया गया है।

ये भी पढ़े- हाथरास-जबलपुर कनेक्शन: डॉक्टर बंसल को जारी होगा शोकॉज नोटिस, माँगा जाएगा स्पष्टीकरण

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here