स्‍थानांतरण रोकने के नाम पर रिश्‍वत लेते मंडला बीएमओ चढ़े लोकायुक्‍त टीम के हत्थे

मंडला, डेस्क रिपोर्ट।  मंडला में जबलपुर लोकायुक्त की टीम द्वारा कार्रवाई की गई है इस कार्रवाई में ब्लाक मेडिकल आफिसर को लोकायुक्त ने रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा है। मामला गुरुवार दोपहर का है, जब ब्‍लाक मेडिकल आफिसर डा. दिनेश टाकसांडे को जबलपुर लोकायुक्त ने बीस हजार रुपये की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों स्वास्थ्य केंद्र बिछिया में पकड़ा। बीएमओ ने सुपरवाइजर का ट्रांसफर रुकवाने रिश्वत की मांग की थी। जिसकी शिकायत सुपरवाइजर ने जबलपुर लोकायुक्त में की थी, शिकायत मिलने के बाद लोकायुक्त टीम ने रणनीति तय कर गुरुवार को बीएमओ को दबोचा।

यह भी पढ़े.. Shivpuri News: सांसद डॉ केपी यादव की कोशिशों का फल बीना-कोटा-बीना के बीच मेमू ट्रेन

दरअसल इस मामले में सुपरवाइजर महेंद्र लाल चौधरी जाे कि आवेदक सुभाष देशराज के रिश्तेदार है। उनका स्थानांतरण मंडला जिले में ही विकासखंड कार्यालय बिछिया के अंतर्गत ककैया से घुघरी हो गया था। स्थानांतरण रुकवाने के लिए बीएमओ टाकसांडे के द्वारा रिश्वत की मांग की जा रही थी। 75 हजार रुपये की राशि मांग की गई थी। पहली किश्त आवेदक सुभाष देशराज ने बीएमओ टाकसांडे को रिश्वत दी। जैसे ही बीएमओ ने रिश्वत ली। रिश्वत लेते हुए लोकायुक्त की टीम ने रंगे हाथों पकड़ लिया। जिसके बाद लाेकायुक्त की टीम के द्वारा कार्रवाई की जा रही है। लोकायुक्त ने भ्रष्टाचार अधिनियम एक्ट केे तहत कार्रवाई की है।