गांधी सागर अभ्यारण में तेंदुए की मौत से हड़कंप, कारणों का खुलासा नहीं

अधिकारी ने इसे शिकार की संभावना से इनकार करते हुए कहा कि उसकी मृत्यु सामान्य एवं प्राकृतिक है अभी गांधी सागर अभ्यारण में लगभग 53तेंदुए हैं जो कि सेंचुरी के विभिन्न क्षेत्र में अपना अपना शिकार एवं विचरण करते हैं | पीएम रिपोर्ट आने के पश्चात ही विस्तृत मृत्यु की वजह का पता चल सकेगा|

भानपुरा, राकेश धनोतिया| गांधी सागर अभ्यारण (Gandhi Sagar Sanctuary) में एक वन्य प्राणी तेंदुआ (Leopard) की मौत की खबर मिलने से वन विभाग (Forest Department) अधिकारियों में हड़कंप मच गया | विभाग के स्टाफ ही नहीं वरन जिला मुख्यालय के अधिकारी वन मंडल अधिकारी भी आनन-फानन में अभ्यारण क्षेत्र के स्थल पर पहुंच गए| जहां तेंदुआ का शव परीक्षण करवा उसका दाह संस्कार किया गया हालांकि विभाग तेंदुआ शव परीक्षण की रिपोर्ट का इंतजार है|

रेंजर पन्नालाल रायकवार से मिली जानकारी के अनुसार 26 जनवरी को दोपहर 1:00 बजे बीट सुरक्षा रक्षक से सूचना मिली कि बीट दांतला के कंपार्टमेंट 1091 में एक तेंदुआ मृत अवस्था में पड़ा है जिसकी सूचना तुरंत वन मंडल अधिकारी मंदसौर को भी दी गई, साथ ही पशु चिकित्सक भानपुरा को भी इस घटना की जानकारी दी गई| शाम 4:00 डीएफओ मंदसौर एवं पशु चिकित्सक घटनास्थल पर पहुंचे जहां मृत तेंदुआ का शव परीक्षण किया गया|

रेंजर पन्नालाल रायकवार के अनुसार मृत तेंदुआ लगभग 15 वर्ष की उम्र का था और उसके दांत भी कमजोर लग रहे थे संभवत या शिकार नहीं मिलने से उक्त तेंदुआ की मौत भूख से भी हो सकती है | अधिकारी ने इसे शिकार की संभावना से इनकार करते हुए कहा कि उसकी मृत्यु सामान्य एवं प्राकृतिक है अभी गांधी सागर अभ्यारण में लगभग 53तेंदुए हैं जो कि सेंचुरी के विभिन्न क्षेत्र में अपना अपना शिकार एवं विचरण करते हैं | पीएम रिपोर्ट आने के पश्चात ही विस्तृत मृत्यु की वजह का पता चल सकेगा|