गौशाला का हाल हुआ बेहाल, खाना-पानी को तरस रही गाय, 40 की हुई मौत

भानपुरा जनपद के गांव नीमथुर कि गौशाला(Goshala) में फैली अव्यवस्थाएं गाय को मौत के काल में धकेल रही है। गोशाला का उद्धघाटन क्षेत्रीय विधायक देवीलाल धाकड़ ने किया था।

collector-order-inquairy-panel-in-cow-death

मंदसौर, राकेश धनोतिया। हिंदु संस्कृति में गाय को माता का दर्जा देकर पूजा जाता है पर उसकी जिंदगी ऐसे तिल-तिल कर गुजर रही है कि देखने वाले के रोंगटे खड़े हो जाएं। यहां फैली अव्यवस्थाएं गायों को मौत के काल में धकेल रही है। ऐसे खराब हालात हैं, मन्दसौर जिले के भानपुरा जनपद के गांव नीमथुर कि गौशाला के। यहां करीब 8 माह से संचालित हो रही मध्यप्रदेश सरकार के द्वारा बनाई पंचायत स्तर पर गौशाला में 40 गाय कि अभी तक मौत हो चुंकी है। भूख से तड़प-तड़प कर और अभी भी लगभग दर्जन भर गायों कि हालत नाजुक है।

दरअसल मध्यप्रदेश शासन द्वारा सड़कों पर दर-दर भटक रही गायों के लिए पंचायत स्तर पर गौशाला निर्माण तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने लागू की थी। लेकिन,जिसकी मांग थी मंदसौर जिले के सुवासरा विधानसभा के विधायक हरदीप सिंह डंग जो गौ भक्त माने जाते हैं। लेकिन, उन्हीं के ग्रह जिले में गायों को चारा तक नसीब नहीं हो रहा वहीं इन गौशालाओं की दुर्दशा काफी दयनीय है।

ये भी पढ़े- MP News: लापरवाही पर बड़ा एक्शन-शिक्षक निलंबित, 3 को हटाने के निर्देश, 1 को नोटिस

आपको बता दें कि ग्राम नीमथुर में 29 जुलाई 2020 को गौशाला का उद्घाटन हुआ था। गोशाला का उद्धघाटन क्षेत्रीय विधायक देवीलाल धाकड़ ने किया था। नींमथुर गांव की गौशाला जिसमें लगभग 130 गाय हैं, तो भूख प्यास के कारण 40 गाय अभी तक मौत के मुंह में जा चुकी है। पंचायत के जिम्मेदार सरपंच सचिव व समिति का ध्यान नहीं हैं। सभी लापरवाही बने हुए है। साहब इससे तो अच्छा था कि गाय सड़क पर अपना जीवन यापन कर रहीं थी। मध्य प्रदेश सरकार ने जहां एक और पांच कैबिनेट मंत्रियों का गौ कैबिनेट भी बनाया है पर धरातल पर कुछ भी नहीं।

 

ये भी पढे़- Hoshangabad : प्लाट बेचने के नाम पर व्यक्ति से हड़पे 44 लाख, FIR दर्ज